सुख और शांति के लिए वास्तु उपाय

सुख और शांति के लिए वास्तु उपाय

सुख और शांति के लिए जितना ज्‍यादा आपका व्‍यवहार मायने रखता है, उससे कहीं ज्‍यादा आपके घर का वास्‍तु। मकान को घर बनाने के लिए जरूरी है, परिवार में सुख-शांति का बना रहना। और ऐसा होने पर ही आपको सुकून मिलता है। यदि आप घर बनवाने जा रहे हैं, तो वास्‍तु के आधार पर ही नक्‍शे का चयन करें। अपने आर्किटेक्‍ट से साफ कह दें, कि आपको वास्‍तु के हिसाब से बना मकान ही चाहिए। हां यदि आप बना-बनाया मकान या फ्लैट खरीदने जा रहे हैं, या पूर्व में मकान बनाते समय वास्तु अनुरूप बनाने से चूक गए हो तो वास्‍तु संबंधित निम्‍न बातों का ध्‍यान रख कर आप अपने घर में सुख-शांति बनाये रखने में सफल हो सकते हैं

      घर के प्रवेश द्वार पर स्वस्तिक या ऊँ की आकृति लगाएं। इससे परिवार में सुख-शांति बनी रहती है।

      घर की पूर्वोत्‍तर दिशा में पानी का कलश रखें। इससे घर में समृद्धि आती है।

      घर के खिड़की दरवाजे इस प्रकार होनी चाहिए, कि सूर्य का प्रकाश ज्‍यादा से ज्‍यादा समय के लिए घर के अंदर आए। इससे घर की बीमारियां दूर भागती हैं।

      परिवार में लड़ाई-झगड़ों से बचने के लिए ड्रॉइंग रूम यानी बैठक में फूलों का गुलदस्‍ता लगाएं।

      रसोई घर में पूजा की अल्‍मारी या मंदिर नहीं रखना चाहिए।

      बेडरूम में भगवान के कैलेंडर या तस्‍वीरें या फिर धार्मिक आस्‍था से जुड़ी वस्‍तुएं नहीं रखनी चाहिए। बेडरूम की दीवारों पर पोस्‍टर या तस्‍वीरें नहीं लगाएं तो अच्‍छा है। हां अगर आपका बहुत मन है, तो प्राकृतिक सौंदर्य दर्शाने वाली तस्‍वीर लगाएं। इससे मन को शांति मिलती है, पति-पत्‍नी में झगड़े नहीं होते।

      वास्तु विज्ञान के अनुसार आपका घर खास तौर पर आपका बेडरूम वास्तु दोष से मुक्त हो तो कई सारी परेशानी यूं ही खत्म हो जाती है। खास तौर पति-पत्नी के बीच प्यार की कमी और पैसों को लेकर परिवार में होने वाले छोटे मोटे विवादों का सामना नहीं करना पड़ता है। इसलिए अपनी लाइफ को रोमांटिक और खुशहाल बनाने के लिए बेडरूम में वास्तु की इन बातों का जरूर ध्यान रखना चाहिए। चाइनिज वास्तु विज्ञान के अनुसार बेडरूप में मेनडरिन बतख की मूर्ति या तस्वीर रखनी चाहिए। यह प्रेम और खुशी के प्रतीक पक्षी माने जाते हैं। यह पति-पत्नी के बीच प्रेम संबंध को मजबूत बनाता है। जिनकी शादी में बाधा आ रही हो वह भी अपने बेडरूम में इसे रखें तो लाभ मिलता है। ध्यान रखना चहिए कि यह पक्षी हमेशा जोड़े में होता है। अकेला रखने से नुकसान होता है।

      बेड के नीचे या जिस बेड पर आप सोते हैं उसके बक्से में कोई भी इलेक्ट्रॉनिक चीजें या कबाड़ नहीं रखना चाहिए। यह न सिर्फ आपके संबंधों को खराब करता है बल्कि आर्थिक समस्याओं को भी बढ़ता है। इससे पति-पत्नी के बीच धन संबंधी विषयों को लेकर मन मुटाव हो सकता है।

      वास्तु विज्ञान के अनुसार विवाहित लोगों को बेडरूम में बेड पर एक ही गद्दे और बेड का इस्तेमाल करना चाहिए। बेड, बेडशीट और गद्दा अलग-अलग होना भी संबंधों में दूरियां बढ़ाने वाला होता है।

      फेंगशुई में यह भी कहा गया है कि अगर संभव हो तब बेडरूम में दर्पण नहीं लगाना चाहिए। बेडरूम में दर्पण का रिफ्लैक्शन बेड पर होने से स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। इससे पति अथवा पत्नी में से किसी एक की तबीयत अक्सर खराब रहती है। इससे संबंधों में भी दूरी बढ़ने लगती है और जीवन में प्यार की कमी होने लगती है।

      यदि आपके घर का बजट गड़बड़ा गया हो, आप से ज्यादा खर्च होता है, परिवार में अशांति रहती है, नोट कमाने के सारे प्रयास व्यर्थ साबित हो रहे हों, तो भगवान को खुश करने के लिए पूजा कक्ष में लाल रंग का प्रयोग ज्यादा से ज्यादा करें।

      घर में घुसते ही शौचालय नहीं होना चाहिए।

      घर के मुखिया का बेडरूम दक्षिण-पश्चिम दिशा में अच्‍छा माना जाता है।

      घर में शौचालय के बगल में देवस्‍थान नहीं होना चाहिए।

      जहां आप बटुआ रखते हों, उस स्थान को भी लाल व पीले कलर से रंग दें। कुछ ही दिनों में फर्क महसूस होगा।

      यदि आपको लगता है कि आपसे कोई ईर्ष्या करता है, आपके कई दुश्मन हो गए हैं। हमेशा असुरक्षा व भय के माहौल में जी रहे हों, तो मकान की दक्षिण दिशा में से जल के स्थान को हटा दें। इसके साथ ही एक लाल रंग की मोमबत्ती आग्नेय कोण में तथा एक लाल व पीली मोमबत्ती दक्षिण दिशा में नित्यप्रति जलाना शुरू कर दें।

      घर में बेटी जवान है, उसकी शादी नहीं हो पा रही है, तो एक उपाय करें- कन्या के पलंग पर पीले रंग की चादर बिछाएं, उस पर कन्या को सोने के लिए कहें। इसके साथ ही बेडरूम की दीवारों पर हल्का रंग करें। ध्यान रहे कि कन्या का शयन कक्ष वायव्य कोण में स्थित होना चाहिए।

      कभी-कभी ऐसा होता है कि व्यक्ति सर्वगुण सम्पन्न होते हुए भी बेरोजगार रह जाता है। वह नौकरी के लिए जितना अधिक प्रयास करता है, उसकी कोशिश विफल होती जाती है। इसके लिए व्यक्ति भाग्य को जिम्मेदार ठहराता है। लेकिन अपने भाग्य को कोसने के बजाय एक उपाय करें- नौकरी के लिए इंटरव्यू देने जाएं, तो जेब में लाल रूमाल या कोई लाल कपड़ा रखें। सम्भव हो, तो शर्ट भी लाल हनें। आप जितना अधिक लाल रंग का प्रयोग कर सकते हैं, करें। लेकिन यह याद रखें कि लाल रंग भड़कीला ना लगे सौम्य लगे।

      रात में सोते समय शयन कक्ष में पीले रंग का प्रयोग करें। याद रखें, लाल, पीला व सुनहरा रंग आपके भाग्य में वृद्धि लाता है। अतः हमेशा इन रंगों का व्यवहार ज्यादा से ज्यादा करें, सफलता मिलेगी।

      जीवन में पीले रंग को सफलता का सूचक कहा जाता है। पीला रंग भाग्य में वृद्धि लाता है। कन्या की शादी में पीले रंग का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग किया जाता है, क्योंकि ऐसा माना जाता है कि कन्या ससुराल में सुखी रहेगी।

Talk to Astrologer

Talk to astrologer & get live remedies and accurate predictions.