logo
India Free Classifieds

सकट चौथ व्रत 5 जनवरी 2018,

सकट चौथ 2018 व्रत का महत्त्व और चाँद निकलने का समय
 
सकट चौथ एक महत्वपूर्ण हिन्दू पर्व है जिसमे विवाहित महिलाएं उपवास रखती है। इस उपवास को माघ माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि के दिन किया जाता है। इसे ‘तिल चौथ’ या ‘माहि चौथ’ भी कहा जाता है। सकट का अर्थ होता है अपभ्रंश। माना जाता है इस दिन श्री गणेश ने देवताओं की मदद कर उनके संकट को दूर किया था। जिसके बाद भगवान शिव ने गणेश जी को आशीर्वाद दिया था की आज से दिन को लोग संकट मोचन के रूप में मनाएं। जो भी व्यक्ति इस दिन व्रत करेगा, उसके सभी संकट इस व्रत के प्रभाव से दूर हो जाएंगे। ‘वक्रतुण्डी चतुर्थी’, ‘माही चौथ’ और ‘तिलकुटा चौथ’ भी इसी पर्व के अन्य नाम है।
 
इस दिन विद्या बुद्धि, संकट हरण श्री गणेश तथा चंद्र देव का पूजन किया जाता है। यह व्रत संकटों को दूर करने और दुखों को दूर करने वाला होता है। यह उपवास रखने से व्रती की सभी इच्छाएं सम्पूर्ण हो जाती है।
 
महत्व :
 
सकट चौथ का उपवास श्री गणेश के पूजन और उनके ध्यान के लिए किया जाता है। इस दिन उनके पूजन का विशेष महत्व होता है। इस पर्व को उत्तर भारत में बड़े विशवास और श्रद्धा के साथ मनाया जाता है। ये व्रत माताएं अपने पुत्रों के जीवन और उनकी खुशियों के लिए रखती है।
 
सकट माता मंदिर :
 
राजस्थान में एक गाँव है जिसे सकट गाँव कहा जाता है यहाँ देव सकट का एक प्राचीन मंदिर है। यहाँ मौजूद मूर्ति संकट चौथ माता की है। यह मंदिर अलवर से 60 किमी है जबकि जयपुर से 150 किमी है। इस मंदिर में जाकर आप देवी सकट के बारे में सभी जानकारियां ले सकते है।
 
2018 में सकट चौथ मुहूर्त व्रत :
 
वर्ष 2018 में सकट चौथ व्रत 5 जनवरी 2018, शुक्रवार के दिन मनाई जाएगी।
 
सकट चौथ पूजा समय
 
सकट चौथ के दिन चंद्रमा निकलने का समय = 21:23
 
चतुर्थी तिथि = 4 जनवरी 2018, वीरवार 21:31 बजे प्रारंभ होगी।
चतुर्थी तिथि = 5 जनवरी 2018, शुक्रवार 19:00 बजे समाप्त होगी।
 
जैसे की हमने आपको पहले बताया की इस दिन भगवान गणेश का भी पूजन किया जाता है और साथ में सकट माता के पूजन का भी विधान है।

ज्योतिष ज्ञान

img

पुत्र प्राप्ति यन्त्र

रविवार के दिन सर्पाक्षी के पत्तो से युक्त डाली लाकर एक...

Click here
img

कुन्डली रहस्य

पंचम भाव में शनि मंगल लग्नेष के साथ हो तो...

Click here
img

संतान का लिंग बताता है चीनी कैलेंडर

मनचाही संतान प्रापित के लिए सवरोदय विज्ञान का...

Click here
img

रत्नों की जांच कैसे हो

कभी भी ज्योतिष की सलाह के बिना रत्न धारण नहीं...

Click here
img

रूद्राक्ष के प्रयोग

यदि मन्त्र षकित (विधान) के साथ धारण किया...

Click here
img

ग्रह दान वस्तु चक्रम

टीका-साधु, ब्रáणों और भूखों को भोजन कराने...

Click here
img

मंगली दोश के उपाय

जातक के लग्न में अषुभ मंगल होने से मंगली दोश बनता हो तो जातक को...

Click here

Can ask any question