Astro Yatra
India Free Classifieds

Can ask any question

शादी में देरी - कारण और निवारण

शादी - शादी - ब्याह में देरी के अनेक कारण हाक सकते है।यदि आप ज्योतिष की दृषिट से देखे तो विलम्ब मुख्य रूप से शनि, षुक्र, गुरु और राहु उत्तरदायी हैं। यदी आपकी कुण्डली में निम्न योगों में से कोर्इ एक या इससे ज्यादा योग विधमान है, तो विवाह देरी से होने की होने की सम्भावना हाक सकती हैं-

यदि लग्न और चन्द्र से शनि पहले, तीसरे, पांचवे, सातवें या दषवे भाव में हो तो विवाह में देरी हो सकती हैं।

पंचम भाव में शुक्र तथा चतुर्थ भाव में राहु होता है तो विवाह में देरी हो सकती हैं।

यदि सातवें भाव में पाप ग्रह तथा गुरु की अषुभ दृषिट (अष्टमेष) पर हो।

शनि अष्टम में हो व लग्नेष शुक्र से युक्त हो।

यदि मंगल है अष्टम भाव मे और राहु सप्तम में हो तो विवाह में देरी हो सकती हैं।

यदि मंगल तथा शुक्र की युति पंचम, सप्तम या नवम भाव मे हो तथा उन पर गुरु की पाप दृषिट हाक तो विवाह में देरी हो सकती हैं।

यदि शनि व चंद्र की युति 1,2,7 या 12 भाव मे हो या शुक्र पंचम मे तथा राहु एकादष में हो।

यदि 6,8,12वें भाव में पाप ग्रह हो तो विवाह में देरी हो सकती हैं।

यदि सप्तमेष 6,8,12 भाव मे गया हो तो विवाह में देरी हो सकती हैं।

उपाय

'श्री रामतक्षास्त्रोत का नियमित 9 दिन तक नौ बार पाठ करें तथा चैत्र नवरात्र में मां गौरी की पूजा अर्चना करें।

महागौरी पार्वती का पूजन करके निम्न् मंत्र की 11 माला जपें।

'है गौरी शंकराधिडिंग यथा त्वं शंर प्रिया।
तथा मां कुरु कल्याणी कांतकांता सुदुर्लभाम।।


कुल देवी का आर्षिवाद प्राप्त करे। गुरुवार का व्रत करें।

ज्योतिष ज्ञान

img

मुकदमें में विजय प्राप्ति यन्त्र

मुकदमें में विजय प्राप्ति हेतु घर के पूजा स्थल में...

Click here
img

दिन का चौघड़िया

दिन और रात के आठ-आठ हिस्से का एक चौघड़िया होता है। यानी 12...

Click here
img

रात का चौघड़िया

चौघड़िया मूहुर्त का महत्व -शुभ कार्य या यात्रा के लिये मुहुर्त न...

Click here
img

चुडाकरण मूहूर्त

अशिवनी - हस्ता - चित्रा - स्वाति - विशाखा - अनुराधा...

Click here
img

अंक ज्योतिष

अंग्रेजी नाम के आधार पर भी मुलांक निकाला...

Click here
img

मन्त्र

बगुलामुखी मन्त्र, महामृत्युंजय मन्त्र व तन्त्र...

Click here

Can ask any question