रत्नों की जांच कैसे हो

रत्नों की जांच कैसे हो

कभी भी ज्योतिष की सलाह के बिना रत्न धारण नहीं करना चाहिए। जैसे किसी बीमारी की क्या दवा है यह डाक्टर ही बता सकता है। इसी तरह बिना आपकी कुंडली की जांच किए ज्याकतिष रत्न नहीं बताता। रत्नों की पहचान भी मुषिकल कार्य है। अनुभवों के आधार पर रत्नों की पहचान होती हैं।

1. माणिक्य की जांच करने के लिए इसे गाय के दुध में डालो। दुध गुलाबी दिखे तो रत्न सही हैं।

2. जमें घी में मोती डालने पर यदि वो पिघलने लगे तो वो असली हैं।

3. पन्ने को पानी के गिलास में डालने पर पानी में से हरी किरणें निकलने लगती है।

4. तेज धुप में मुंगे को कागज पर रखें तो कागज जलने लगता है।

5. गर्म दुध में हीरा डालनें पर हीरा एकाएक ठंडा हो जाता है।

6. पानी से भरे कांच के गिलास में नीलम डालने से नीलीं किरणें निकलने लगती है।

7. असली गोमैदक को दुध में डालने से दुध का रंग गोमूत्र जैसा दिखने लगता है।

8. यदि लहसुनिया अंधेरे में रखा जाए तो चमकता हुआ दिखाइ देता है। यदि लहसुनिया को 24 घंटे तक किसी हडडी पर रखा जाए तो वो हडडी में आर पार छेद कर दकता है।

Talk to Astrologer

Talk to astrologer & get live remedies and accurate predictions.