astrology tips

Astrology to Attract a Specific Person into Your Life

Astrology to Attract a Specific Person into Your Life

The one you love is the most crucial person in your life, there is a reason to give up your hopes, it doesn’t matter that you exist in their life or not, because here is Astrology to attract a specific person into your life. Astrology is the way because of which you can make all things possible and change your desired things according to you.  A human being life is change as per planet and start position, so astrology is the one because of which you can determine planet position in your horoscope and make a remedies to change their location according to your favor, after change everything your desired one will attract towards you and gradually they make fall in love with you. So rapidly make consult Love astrology specialist and enjoy lovely life with your desired one.

जिस घर में होता है ये पौधा, उसे छोड़कर नहीं जातीं देवी लक्ष्मी

How to make a love relationship succeed

Every couple strives to make their love relationship succeed and make it long lasting happier but not only one get success to make it possible.  Because relation goes through many ups and downs that the reason sometimes happiness and harmony are faded and relation start to seem like ending.  If you are going through this critical circumstance and you have questioned that how to make a love relationship succeeds then you come at right place.  Here are astrology ways is provides by astrology specialist to resolve all type of issues and make all thing work in your favor. No matter from this critical situation your relation in going and  how long conflict have in your relation  because astrology remedies has the power to change thing and change negative things into positive, so whenever you will take help of astrology you will seem that everything is going alright in your relation along with happiness and harmony rekindle once again.

ये भी जरूर पढ़ें :

फेसबुक पेज को लाइक जरूर करे –  Astroyatra

Activate Your Seven Chakras of Your Inner Soul

CHAKRA could be a Sanskrit word which means “wheel.” people who will see them describe chakras as spinning wheels of sunshine that glow and unfold outward. The magnificence of the diverging colors reflects the strength of a person’s inner soul or chi, the clarity of one’s thoughts and therefore the purity of one’s attitudes. Chakras are concentrations of targeted energy that have a lot of mental and religious power. After we activate and balance our chakras, we have a tendency to stimulate the optimum unleash of powerful energies, that bring about to feelings of well being, physiological state and increased mental clarity.

Within our bodies we’ve focal points of energy that we have a tendency to use consciously or unconsciously all the time so that they have an effect on our attitudes, our response to the globe and our potential for happiness and physiological state. These focal points are our Chakras, and therefore the well being of every of our seven Chakras affects our behaviour and attitudes. Consciously standardisation into them, meditating on them and so arousing and equalisation them so wonderful for creating us feel targeted.

When our chakras may block, unhealthy or unbalanced, they lead us to create unwise selections, and makes us depressed, sad and indecisive. Chakras are a core belief of the many broody practices, religious and spiritual, and are incorporated into several New Age practices. The chakra system was 1st developed in India within the middle Ages.

Chakras will be stirred in several ways that. At the best levels of stimulation, extremely earned yogics use broody equipoise to try and do thus. Their ways replicate their high levels of mental and religious attainments. These are referred to as siddhic powers, the conclusion of that need years of broody go back to excellent. Powerful and typically secret ways for arousing the chakras are aforementioned to be a part of Hindu and Tibetan Chakra systems. These ways aren’t promptly offered and may typically solely be learnt once one is taken beneath the wing of a high professional, high lama, typically a saint or accomplished guru.

Keep these things in mind when broom-wiped, get pleased Lakshmi

Keep these things in mind when broom-wiped, get pleased Lakshmi

Room-wiped clean and the house are dirt free. In totaling, here are a number of points to be taken connecting to these also can be so pleased to Mahalakshmi. According to the scriptures, the remove is also measured a form of Mahalakshmi. Appearance of scarcity is to sweep out the dust. In each corner of the home is clean, there is a positive atmosphere.

Where and how to keep the broom

Sweep the bad from entering the home is broken. So keep in brains the connection of broom from happiness.

1. The release space is measured a bad sign to sweep, so keep it secreted.

2. Do not put the swab in the dining room; it may end up home-based food. as well, you may have to face fitness problems.

3. If you’re outside broom in face of the door at nighttime to keep every day, it does not enter the house of negative energy. This effort should only in night time. Keep defeat day sweep.

These measures at home, when wiped

If you take the ground in the house, the water should also be in small amount salt. Dirt free the floor to put salt water microorganisms found to be smashed. Also, the house will be over harmful energy.

Broom-related prognostic omen

1. If a child is put in place should rapidly sweep unnecessary guests coming in the house.
2. After evening sweep at home by mistake and should not be wiped. This is measured a bad omen.
3. Sweep the leg is supposed to not exist in mistake. When this happens, Lakshmi gets angry. It is a terrible sign.

 

 

In between time of 12 to 3 should keep money at this place

vastu scripture

Vastu scripture is based on five elements. These five elements are fire, air, water, earth and space. Sun is also assumed form of fire. So sun also affects vastu scripture. So it is compulsory that we should choose time for home making according to sunrise to sunset and should decide our daily routine.

1. According to vastu scripture from mid night to 3 Am sun is in north part of the earth. This time is so much secret. This direction and time is known best to keep safe expensive item and jewelery.

2. Before sunrise the time from 3 Am to 6 am is known Brahma muhurta. This time sun is in north-east direction of earth. This time is known best meditation, study.

3. In morning 6am to 9 am sun is in east part of earth. So build your home in such way that sun light should enter at your home.

4. From 9am to 12 pm sun is in south-east direction. this time is known best to cook food. This time kitchen and washroom are wet and they should be at that place thereby could dry.

5. From 12pm to 3 pm sun is in south direction so rest room should be in south direction.

6. From 3pm to 6 pm is time of study and work. And sun is In south-west direction of earth. So this direction is best for study room or library.

7. The time from 6am to 9 am is of study, sitting and dinner. So west part of home is best for food or drawing room.

8. from 9 pm to 12 am sun is in north-west direction so bedroom should be in this direction.

जाने कैसे रहता है हमारे अच्छे – बुरे कर्मों का हिसाब

blog_astroyatra

धर्म ग्रंथों के अनुसार मनुष्य के हर अच्छे-बुरे कर्मों का फल उसे स्वर्ग या नरक में प्राप्त होता है। इन अच्छे-बुरे कर्मों का हिसाब यमलोक में चित्रगुप्त की पुस्तक में अंकित होता है। ये बातें तो लगभग सभी जानते हैं, लेकिन ये बात बहुत कम लोग जानते हैं कि मनुष्यों द्वारा किए गए अच्छे-बुरे कर्मों के बारे में चित्रगुप्तजी को कौन बताता है?

गरुड़ पुराण में इस बारे में बताया गया है। उसके अनुसार हर मनुष्य के आस-पास श्रवण नामक गण रहते हैं। ये किसी को दिखाई नहीं देते। श्रवण नामक देवता ब्रह्माजी के पुत्र हैं। ये स्वर्गलोक, मृत्युलोक, पाताललोक आदि में भ्रमण करते हैं और मनुष्य के अच्छे-बुरे कर्मों को देखते हैं।

– श्रवण व श्रवणी ये सब धर्मराज के दूत हैं। ये प्राणियों के मन और वचन से किए गए अच्छे-बुरे कर्मों को जानते हैं। मनुष्य और देवताओं के तत्व को जानने की श्रवण देवताओं की शक्ति है। वह सत्यवादी श्रवण मनुष्यमात्र के किए हुए सभी कार्यों को चित्रगुप्त को बतलाते हैं।

– व्रत, दान, सत्यपालन आदि से कोई भी पुरूष श्रवण को प्रसन्न करे तो श्रवणगण उस मनुष्य को स्वर्ग तथा मोक्ष देने वाले हो जाते हैं। सत्य बोलने वाले धर्मराज के श्रवण पापी पुरुषों के पाप को जानकर यमराज से कह देते हैं, उन पर विचार करने के बाद ही यमराज पापियों को दंड देते हैं।

– श्रवण नामक देवता दूर स्थित वस्तुओं को भी प्रत्यक्ष रूप से देख सकते हैं व सुन सकते हैं, इसलिए इनका नाम श्रवण रखा गया है। इनकी स्त्रियां भी श्रवणी नाम से प्रसिद्ध हैं। ये स्त्रियां भी महिलाओं के चरित्रों को अच्छी तरह से जानती हैं।

– इस संसार में जो प्राणी अच्छे या बुरे कर्म सबके सामने या गुप्त रूप से करते हैं, उसको श्रवण नाम के देवगण चित्रगुप्त से कहते हैं और स्त्रियों के चरित्र को श्रवणगण की श्रवणी नामक स्त्रियां चित्रगुप्त से कहती हैं।

देवी मंत्रो से करे अपने जीवन की हर बाधा को दूर

 

blog_astroyatra

कार्यक्षेत्र या परिवार से जुड़े मामलों में मिले कई अनचाहे नतीजे कुछ अवसरों पर गहरी चिंता में डूबो देते हैं। असल में काम और सफलता में संकल्प शक्ति निर्णायक होती है। मजबूत संकल्प शक्ति के बिना मनोबल कमजोर होता है। इससे कर्म पूरे समर्पण भाव से नहीं होता और मनचाहे लक्ष्य या सफलता को पाना मुश्किल हो जाता है।

शास्त्रों में देवी उपासना पावन और मजबूत संकल्प शक्ति से ही मन और कर्म में संयम व संतुलन बनाकर जीवन से जुड़े हर मकसद को पूरा करने के लिए बेहद असरदार मानी गई है।

भय, संशय से मुक्त जीवन के लिए ही देवी उपासना के विशेष दिनों जैसे शुक्रवार विशेष देवी मंत्रों के ध्यान का महत्व बताया गया है। जानिए ऐसे ही 10 देवी मंत्र, जो बोलने में मुश्किल से चंद पल ही लेंगे, लेकिन बड़ी से बड़ी परेशानियों से निजात देंगे।

शुक्रवार की सुबह व शाम स्नान के बाद स्वच्छ व यथासंभव लाल वस्त्र पहनकर दुर्गा प्रतिमा या नवदुर्गा की तस्वीर को लाल चंदन, अक्षत, सुहाग सामग्री, चुनरी, लाल फूल व दूध से बनी मिठाईयों का भोग लगाएं।

देवी पूजा के बाद यहां बताए जा रहे चंद पलों में बोले जा सकने वाले 10 छोटे-छोटे, किंतु असरदार देवी मंत्रों का स्मरण परेशानियों से छुटकारे की कामना से करें। देवी के सामने धूप व दीप जलाकर ये 10 देवी मंत्र गहरी श्रद्धा और सुख-सफलता भरे जीवन की चाहत के साथ स्मरण करें-

ॐ महाविद्यायै नमः।

ॐ जगन्मात्रे नमः।

ॐ महालक्ष्म्यै नमः।

ॐ शिवप्रियायै नमः।

ॐ विष्णुमायायै नमः।

ॐ शुभायै नमः।

ॐ शान्तायै नमः।

ॐ सिद्धायै नमः।

ॐ सिद्धसरस्वत्यै नमः।

ॐ क्षमायै नमः।

 

क्या आप जानते है कि हथेली में छिपा आपका भाग्य

ASTROYATRA

जैसा की हिन्दू शास्त्रो में कहा गया है कि मनुष्य की किश्मत उसकी हथेली की रेखाओ में समाहित होती है। हर मनुष्‍य की हथेली में अलग-अलग चिह्न होते हैं और उनका फल भी अलग-अलग होता है। यदि किसी की हथेली पर क्रॉस का चिह्न जहां जीवन में आने वाली बाधाओं को दर्शाता है ।
सामुद्रिक शास्‍त्र में हथेलियों पर बनने चिह्नों के बारे में विस्‍तार से लिखा है। यह चिह्न सौभाग्‍यशाली, सम्‍मानित, सुखी व प्रभावशाली वक्‍ता के साथ नेतृत्‍व प्रधान की शक्‍ति भी देता है।

* जिस मनुष्य की हथेली में मंगल पर्वत पर त्रिशूल का चिह्न होता है उसे शिव योग बनता है। ऐसे लोग स्‍वभाव से दयालु, स्‍वावलंबी, परहितकारी, समाजसेवक होते है।

* जिस मनुष्‍य की हथेली में सूर्य के समान चिह्न होता है वो मनुष्‍य बुद्धिमान, आविष्‍कारक, शोधकर्ता, यथार्थवादी और यश-मान अर्जित करने वाले होता हैं। ऐसे मनुष्य व्‍यावहारिक जीवन में बहुत सादगी से रहते हैं और हर कार्य में सफलता पते है ।

* जिसकी हथेली में शुक्र पर्वत पर यदि हाथी का चिह्न हो तो ब्रह्म योग का निर्माण करता है। ऐसे लोग गंभीर, आत्‍मविश्‍वासी, धैर्यवान, संतोषी होता है।

* स्‍वस्‍तिक का चिह्न जिसकी हथेली में होता है, वे लोग मान-प्रतिष्ठा पाने वाले होते हैं।

* यदि किसी की हथेली पर कमल का चिह्न होता है तो उसे विष्‍णु योग कहा जाता है। इसके फलस्‍वरूप वह जातक विपुल वैभव, ऐश्‍वर्य और अनेक संपत्तियों का मालिक होता है।

* जिस जातक की हथेली में तराजु का चिह्न मिलता है, उसे महालक्ष्‍मी का योग्‍य माना जाता है। ऐसा जातक ऐश्‍वर्यवान, धनवान, लक्ष्‍मीपुत्र होता है। समाज में उनका आदर होता है तथा अपनी बुद्धि के बल पर पूर्ण सफलता प्राप्त करने में सक्षम होते हैं।

मंदिर की परिक्रमा करने के लाभ

temple-blog

भगवान की पूजा-अर्चना के बाद हम मंदिर के चारो ओर परिक्रमा करते हैं। सामान्यत: हम सब देवी-देवताओं की परिक्रमा सभी करते हैं, लेकिन अधिकांश लोग यह नहीं जानते कि परिक्रमा क्यों की जाती है। और परिक्रमा करने से क्या लाभ मिलेगा।
मंदिर की परिक्रमा संबंध में हिंदू शास्त्रों में बताया गया है कि भगवान की परिक्रमा करने से अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है। परिक्रमा करने से हमारे पाप होते है। देवी-देवताओं की कृपा से पैसों की तंगी से मुक्ति मिलती है और धन की प्राप्ति होती है । घर-परिवार में प्रेम बना रहता है।

आरती, पूजन और मंत्र जप के चमत्कारी असर से मंदिर परिसर में हमेशा सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाहन होता रहता है। जब परिक्रमा करते है तो मंदिर की सकारात्मक ऊर्जा हमें अधिक मात्रा में प्राप्त होती है और इसी वजह से श्रद्धालुओं को शांति और सुख का अनुभव होता है। मंदिर से प्राप्त होने वाली सकारात्मक ऊर्जा अथवा दैवीय शक्ति हमें चिंताओं से मुक्त करती है। हमारा मन भगवान की भक्ति में लग जाता है और यही कारण ह की हम भगवान की भक्ति में लीन हो जाते है समाज व परिवार को त्याग देते है ।

परिक्रमा के माध्यम से हम दैवीय शक्तियों को ग्रहण कर सकते हैं और परिक्रमा के माधयम से हम देवी देवताओ को प्रश्न कर सकते है । इसी वजह से परिक्रमा की परंपरा बनाई गई है। जिससे भक्तों की सोच भी सकारात्मक बनती है और बुरे विचारों से मुक्ति मिलती है। प्रतिमा की परिक्रमा करने से हमारे मन को भटकाने वाले विचार समाप्त हो जाते हैं और शरीर ऊर्जावान व नयी उमंग उत्पन होती है। रुके कार्यों में सफलता मिलती है।

चमत्कारी मंत्रो से करे अपने जीवन की हर बाधा को दूर

chmatkar-mantra

दुःख जीवन में तन, मन हो या धन किसी भी रूप से मिले, उस दौरान संयम व विवेक का साथ  न छोड़ा जाए तो जीवन में आगे बढ़ने की राह आसान हो जाती है। हिन्दू धर्मग्रंथों के कई सूत्र भी सुख व दुःख में समानता के साथ जीना ही सिखाते हैं। यानी दर्द का अहसास करने पर ही उसका सही उपयोग सफलता व तरक्की के लिए करना संभव हो पाता है।

इसी कड़ी में शक्ति पूजा भी हर दु:ख-दर्द दूर कर सुख, सुकून, राहत और खुशियां देने का उपाय मानी गई हैं। मां दुर्गा के विराट स्वरूप व शक्तियों के स्मरण द्वारा शक्ति साधना के लिए ही देवी सूक्त के चमत्कारी देवी मंत्रों का पाठ साधक की हर मनोरथ को पूरी करने वाला माना गया है।

देवी सूक्त मंत्रों के शुभ प्रभाव से मानसिक कष्ट व कार्य बाधा दूर होती है। यह धन, ऐश्वर्य और वैभव देकर जीवन में आनंद और शांति लाता है। विपरीत हालात में यह हौंसला व मनोबल बनाए रखता है।

शुक्रवार देवी उपासना का विशेष दिन होता है। इस दिन खासकर देवी सूक्त का पाठ घर-परिवार की सुख-समृद्धि के साथ व्यक्तिगत रूप से मन की व्यग्रता को भी दूर करता है। अगली स्लाइड पर जानिए दुर्गा पूजा का सरल उपाय व देवी सूक्त के मंगलकारी मंत्र-

– शुक्रवार के दिन स्नान कर देवालय में एक चौकी पर लाल कपड़ा बिछाकर उस पर माता किसी भी स्वरूप महाकाली, महालक्ष्मी, सरस्वती या कुलदेवी की ही पूजा की जा सकती है।

– माता को पवित्र जल से स्नान कराएं। उसके बाद गंध, रोली, लाल फूल, अक्षत अर्पित करें।

– माता को मौसमी फल, घी से बने हलवा, चने का भोग लगाएं।

– मां दुर्गा की उपासना के लिए देवी सूक्त का पाठ श्रद्धा व भक्ति से करें।

– अंत में धूप और घी का दीप जलाकर दुर्गा मां की आरती करें और मनोरथ पूर्ति व दु:खों के नाश के लिये प्रार्थना करें।

 

नमो देव्यै महादेव्यै शिवायै सततं नमः।

नमः प्रकृत्यै भद्रायै नियताः प्रणताः स्म ताम् ॥1॥

रौद्रायै नमो नित्यायै गौर्यै धात्र्यै नमो नमः।

ज्योत्स्ना यै चेन्दुरुपिण्यै सुखायै सततं नमः ॥2॥

कल्याण्यै प्रणतां वृध्दै सिध्दयै कुर्मो नमो नमः।

नैऋत्यै भूभृतां लक्ष्म्यै शर्वाण्यै ते नमो नमः ॥3॥

दुर्गायै दुर्गपारायै सारायै सर्वकारिण्यै।

ख्यातै तथैव कृष्णायै धूम्रायै सततं नमः ॥4॥

अतिसौम्यातिरौद्रायै नतास्तस्यै नमो नमः।

नमो जगत्प्रतिष्ठायै देव्यै कृत्यै नमो नमः ॥5॥

या देवी सर्वभूतेषु विष्णुमायेति शाध्दिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः ॥6॥

या देवी सर्वभूतेषु चेतनेत्यभिधीयते।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः ॥7॥

या देवी सर्वभूतेषु बुध्दिरुपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः ॥8॥

या देवी सर्वभूतेषु निद्रारुपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः ॥9॥

या देवी सर्वभूतेषु क्षुधारुपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः ॥10॥

या देवी सर्वभूतेषु छायारुपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः ॥11॥

या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरुपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः ॥12॥

या देवी सर्वभूतेषु तृष्णारुपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः ॥13॥

या देवी सर्वभूतेषु क्षान्तिरुपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः ॥14॥

पितृदोष और इसके उपाय

blog

अगर कोई कार्य की व्यस्तता या जन्म का सही वक्त और तारीख नहीं जानने के कारण कुण्डली में पितृदोष नहीं जान पाए तो यहां बताई जा रहीं व्यवहारिक जीवन से जुड़ी कुछ ऐसी बातें, जिनसे यह साफ हो जाता है कि घर-परिवार में पितृदोष हैं या नहीं …………..

1. कड़ी मेहनत करने पर भी बुरे परिणाम मिलना।

2. घर-परिवार के कोई भी काम पूरा होने वाला हो, तभी उसमें रुकावट आती है।

3. अच्छी कमाई और धन होने पर भी बचत नहीं होती। धन गैरजरूरी कामों में खर्च हो जाता है।

4. पिता और पुत्र के बीच गहरा मनमुटाव और तनाव की स्थिति बन जाती है।

पितृदोषों के अशुभ प्रभाव से आने वाली इन मुश्किलों में यह छोटा सा उपाय कारगर सिद्ध होता है-

उपाय पितरों की प्रसन्नता के लिए घर के देवालय में दीपक, अगरबत्ती जलाएं। देवस्थान के करीब पितृरों की तस्वीर न होने पर भगवान विष्णु के साथ पूर्वजों का स्मरण करते हुए नीचे लिखे मंत्र का 21 बार जप करें-
 पितराय नम:

5. धन, सुख-सुविधा, परिवार से समृद्ध होने पर भी शुभ और मंगल कार्य नहीं हो पाते।

6. पुत्र या पुत्री शिक्षित और आत्मनिर्भर होने पर भी उनके रोजगार या विवाह में देरी या बाधाएं आती है।

7. चिंता और रोगों से परेशान और बेचैन रहते हों।

पितृदोषों से पैदा इन परेशानियों में यह उपाय असरदार सिद्ध होते हैं-

उपाय रविवार या हर रोज खासकर आश्विन माह में श्राद्धपक्ष की सारी तिथियों व रविवार को स्नान कर तांबे के लोटे में जल भरकर उसमें सफेद आंकड़े के फूल डालें और उदय होते सूर्य को अर्घ्य दें। अर्घ्य देते समय नीचे लिखे मंत्र का 21 बार जप करें-

 सूर्याय नम:  

How Aghori get experience of magic and astrology in life

Agorion’s life is more difficult, even more mysterious. Silence Agorion method is the most mysterious. Their own style, their legislation, their different methods. Agori are those who are not grievous. This is very simple and intuitive. Which do not discriminate in mind? Agori expressions are equal in everything. They taste equally with rotting animal flesh, eat as much delicious dishes are eaten with relish.

Agorion world, their everything is wonderful. At which they become happy, give him everything. Agorion are many things that you have heard, press jaw finger. We are told these words to some of the world Agorion, by reading this you will realize how hard they are spiritual. Today you’ll learn about as well as the cemetery where his practice primarily to Agori. Learn interesting things about Agorion –

– Agori basically has three kinds of spiritual practices. Shiv Sadhana are Sadhana and Cremation spiritual bodies. Stand with feet up in the body of Shiva meditation is meditation. There are other ways like a spiritual body. The origin of this practice is kept by Shiva and Parvati on the chest, legs. Sadnaon such as offerings to the dead meat and wine are also offered.

– Silence is the third addition to the body and cremation Shiva meditation practice, which may be common among family members. The Silence of the dead are worshiped Svpit place. Ganges water is sprinkled on it. Here’s offerings as well as meat – Mandira replace the milk solids are plated.

Read these things – even uncomfortable to listen to, but cannot be completely ruled out either. There can be no challenge to their discipline.

– Agori eats everything except the beef. From human feces to the meat of the dead. Agor mortuary cult practice has special significance. So much prefer to stay in the crematorium. Cremation is fruitful in the discipline soon. Cremation is simply not human. In practice, therefore, no question of confusion whenever they arise. Sense of good and bad slips their mind, so they feel thirsty to drink own urine do.

– Agorion known about several things as they are too stubborn, stubborn to talk to anyone you do not leave without completing. You can go to any extent to get angry. Most Agorion eyes are red, as they are very angry, but his heart is just as cool too. Agori wrapped in black clothes wear neck beads made of metal Nrmund.

– Agori often cemetery just make your cottage. Where is a small Dhuni burns. They only feed on animals like dogs. He lived his disciples who serve them. Agori are your thing, very fast, they have to tell anyone no matter if it will be fulfilled.

– Agori is normally cut from the common world. They are cool in their own living, sleeping most of the time day and night to have meditated in the cemetery. They keep contact with ordinary people. Nor do more things. Most times they are a proven mantra chanting itself. Agori and Prashktion such mechanisms are still the seeker can tame.

These Tarapit the crematorium (West Bengal), Kamakhya back (Assam) Kashmshan, Trryambkeshhwar (Nasik) and Ujjain cremation.

Astrology method to get the money & success

Astrology money & success

 

According to Hindu mythology knowledge, wealth and force is the foundation of a successful life. Where knowledge makes its way to earning money, the money and force, knowledge as well as fame, prestige and pleasure you will get to give away all difficulties. Therefore, it is essential to understand life better manage when and how knowledge, wealth and power is use or abuse profit and loss?

According to the scriptures, knowledge, wealth and power, so that no human being could elicit, but her fame and success of specific individuals, whether they are women or men are available. More on the special qualities in a man or woman for her wealth, knowledge and power prove to be very beneficial and why –

Therefore wealth, power and knowledge are different – in different ways, which would cause profit and loss. However, the use of gentle wisdom lore, using funds donated for charity and awareness and the use of force to protect savings and the respect of others.

Jindgi in this formula is that the knowledge, wealth and power lead to happiness and success is formed only when all be taken as goodness. It is equally necessary for both men and women, otherwise life Mundane the shadow of disgrace and poverty.