Category Archives: Uncategorized

How to Rebuild Your Spouse's Trust after An Affair

How to Rebuild Your Spouse’s Trust after An Affair

Broken trust in any relation is the devastating and terrifying situation. Broken trust is not only spilt up married couple, in fact it break down hurt of a couple, a sometimes wound of broken heart can’t heal. Are you the one who broken trust of your spouse? Do you want to rebuild your spouse trust? Are you seeking solution how to rebuild your spouse’s trust after an affair? If yes then you come at right place. Trust is a foundation of all relation if trust is broken in relation at least once then that relation is not worth saving. Regain of trust of spouse is not the easiest thing because on one want to hurt again and again. Sometimes, rebuild a relation after trust broken takes a time. If you cheated on your spouse and cause of your affairs your relation is broke down, your spouse is split up from you. But now you realize your mistakes and want to regain the trust of your companion and rebuild a relation then you should strive for this. Stop lies and keep communication continues. Communication is an important thing to make a relation healthier and perfect, never tell anything lies in relation, this leads a relation at the end point of separation. So keep everything apparent in relation, share everything with your spouse whatever is going in your relation. Till when you can’t regain the trust of your spouse and rebuild a relation with them. Shows them love, affection, and faith, and feel sorrow for whatever you did with them and make them feel special and important and you want to spend your rest of life with them. Might they forgive you and rebuild a relation with you.

If you spouse is taking time for again trust on you then, then keep patience, don’t rush, as a human being people take a time to again trust that people who cheated on them, and hurt them mentally and emotionally, so you should give them space for thinking about your relation. There are two chances, either they will trust you or not. If they will forgive you and rebuild a relation with you then it’s good for you, but if you seem that you are unable to gain the trust of your spouse then, now no need to worries our astrology specialist will help you to attract and control a person and make change them as you want. They will attract your spouse towards you and make them in love with you. so your spouse will pull toward you and rebuild a relation with you.

ये भी जरूर पढ़ें :

फेसबुक पेज को लाइक जरूर करे –  Astroyatra

शनिवार को करें इन चीजों का दान तो दूर होंगे शनि के दोष मिलेगा धन लाभ।

शनिवार को करें इन चीजों का दान तो दूर होंगे शनि के दोष मिलेगा धन लाभ।

ऐसा माना जाता है की शनिदेव ही हमारे कर्मों के अनुसार शुभ या अशुभ फल प्रदान करते हैं। यदि कुंडली में शनि अशुभ स्थिति में हो तो व्यक्ति को कार्यों में आसानी से सफलता नहीं मिल पाती है।  इस परिस्थिति  में व्यक्ति को कई  समस्या का सामना करना पड़ता है।  और साथ ही घर की बरकत भी खत्म होने लगती है।

अपनी इच्छा  के अनुसार  काले तिल, काले कपड़े, लोहे का बर्तन, उड़द की दाल,  कंबल आदि का दान करे।  इससे शनि के दोष प्रभाव खत्म होने और शुभ फल की प्राप्ति होगी।

ऐसा कहा  जाता है जो कोई हनुमान जी की पूजा करता है उसे कभी भी शनि के दोष प्रभाव का सामना नहीं करना पड़ता है।  बंदरो को गुड़ और चने खिलाये।  हर शनिवार को हनुमान चालीसा का पाठ करे।

शनि दोष को ख़त्म करने के लिए और धन  की प्राप्ति के लिए रोज सुबह स्नान करने के बाद एक कटोरी  म तेल  ले उसमे अपना चेहरा देखकर  किसी जरूरत मंद को दान करे।  जिससे शनि देव प्रसन्न होंगे।

शनिवार के दिन शिवलिंग पर जल अर्पित करे।  जला अर्पित करने के लिए ताम्बे के लोटे का उपयो करे उसमे काले तिल डाल दे।   जिससे शनि देव आपसे प्रसन्न होंगे और आप धन लाभ होगा।

हर शनिवार के दिन शनि देव को नीले रंग के फूल चढ़ाये।  पूजा करे।   शनि मंत्र ॐ शं  शनैश्चराय नम: मंत्र का जाप करे।

How to Heal Wounded Heart or Sprit

 

Love is so much beautiful but it totally depends on the people itself that how they take it and how to make their love life beautiful if a couple is having a good understanding then there is no one who can make them separate from each other. But if they fail to deal with the problems then there is not any way to stop them from getting separate. And when once they separate then get back together is not easiest thing are you also the same couple who had done break up and now wants to get back together and that’s the reason they are searching the way that how to heal wounded heart or spirit and get back together in the relationship. Then you are at a perfect place we are here to make help you. If you wants to get back together and you are not able to find the path then by using astrology tactics you can make help you’re yourselves to get your ex-one back in your relationship. There are several of tactic are defined in astrology which is powered enough to solve any kind of problems of human being.

Love spell to get back ex-one with the help of astrology

Many of people are in the world that are facing problem of heartbroken and reason of that they are too much upset from their selves and somewhere it is true also because when you love someone and if they leave you or left you then it really become one of the most terrific pain for you and you do everything to get back them in your life but it’s not as much easier as it seems. so that’s why for all the people who are going through this situation then you should use Love spell to get back ex-one with the help of astrology.

 

नवरात्र में शक्ति पूजा का महत्व

नवरात्र में शक्ति पूजा का महत्वहिन्दू धर्म में मां दुर्गा की पूजा को शक्ति-पूजन भी कहा जाता है तथा नवरात्रि की नौ रातों में देवी के सभी नाम रुपों की पूजा अर्चना की जाती है। इस सिद्ध काल में शक्ति की उपासना की जाती है। देवी दुर्गा ही शक्ति हैं। इनके कई रूप हैं, पर मूल दुर्गा ही है, यही दुर्गतिनाशिनी हैं। दुर्गा ही सर्वव्यापिनी हैं। हमारे समक्ष जो दृश्य है जैसे सारे भुवन, स्त्री, पुरुष, पशु, पक्षी और समस्त भूत दुर्गा के ही स्वरूप हैं।

धन प्राप्ति के लिए भी शक्ति की जरूरत है और प्राप्त धन की सुरक्षा के लिए भी शक्ति आवश्यक है। हमें अपनी जायदाद, परिवार सबकी सुरक्षा के निमित्त शक्ति की आवश्यकता होती है, बिना शक्ति न तो भक्ति संभव है और न ही भोग। जीवन को जीने के लिए शक्ति का उपयोग हर क्षेत्र में आवश्यक है। अत: बिना शक्ति की साधना के जीवन सराहनीय नहीं है।

राक्षसराज रावण पर विजय पाने के लिए स्वयं भगवान राम ने भी शक्ति-पूजा की थी। प्रतिवर्ष शरद ऋतु में करोड़ों हिंदू दुर्गा-पूजा मनाते हैं। देवी का हरेक नाम और रुप दिव्य शक्ति के एक विलक्षण गुण या स्वरूप का प्रतीक है। नवदुर्गा दुर्गा शक्ति के नौ स्वरूप हैं जो कि नकारात्मकता के प्रति एक ढाल का काम करती हैं। दिव्यता के इस दुर्गा देवी स्वरूप का यही महत्व है। नवरात्र दुर्गा की पूजा का विशेष अवसर है ताकि जीवन में ये सब गुण एक साथ पनपें और बढ़ें . सामंजस्य और एकता बनी रहे।

नवरात्र के नौ दिनों का महत्व ?

नवरात्र दिन काल का वह भाग है जिसमें इंद्रियां अपने विषयों में रत रहती हैंं और रात्रि काल के भाग में इंद्रियां अपने विषयों से निवृत्त होकर अंतर्मुखी हो जाती हैं। किसी साधना को सफल करना है तो उसके प्रति हमें अंतर्मुखी होना पड़ेगा। इस प्रकार इन नौ दिनों में अपने को अंतर्मुखी कर जगत-जननी की उपासना में रत कर लेना चाहिए। इसलिए इन दिनों को नवरात्र कहते हैं।

Method of self personality development

Method of self personality developmentIf you want to see coming out of solution, why do not you start working on it? Now it is certain that nothing will happen to your Kudnhe and complain.

To respond to problems that are too large for you, you as a man grow. Do you think someone might come and solve the problem for you? If your focus is on then it is your problem.

Facing such a problem, which is too big for you, you can give your life purpose. It is to treat apathy and boredom. What will happen when you – the face of failure? Bound to fail is in the beginning and not several times, if such is the construction of our personality.

Amla is invigorating: Know the advantage

Amla is invigorating: Know the advantage  Amla is comes in the properties of Ayurveda. So use different amla in India for centuries – are used in different ways. The conduct as amla pickle sauce ever used in the meal, so keep some people in the form of amla intake.

Modern science also believes in the importance of the medicinal properties of amla . Amla also many tribal herbal remedy is to use it as an important drug. Amla we today know about those qualities which are perhaps less known.

– Amla juice (about 50 mg l) amounts to prepare. Mix 5 gm cow’s ghee. To this mixture is daily at night before bed to get rid of the problem of men’s semen.

– To strengthen the body’s strength and Amla is considered very good. Amla powder mixed in equal amounts in the milk powder Gilroy bike stem. This communication is tremendous energy in the body. This mixture was also taken little corny it is very powerful and should take it with milk before bed at night.

– Amla leaves blisters in the mouth to chew on. Bark is relieved. While eating dinner comes and blood came out tongue between teeth chewing on the leaves immediately take amla and will be relieved.

– Equal amounts of dried leaves of dried amla and amla (about 4 grams) bike. They grind this mixture add the turmeric powder. After at least two meals a day, take it , will benefit . Formula panacea it is in the control of diabetes.

– 2 grams of turmeric powder in a glass of Amla juice mix. Drink it regularly recharge the body remains . This proves extremely beneficial for diabetes control. Amla and turmeric mixture of modern science also considers effective for diabetes.

– Ashwagandha root of amla powder and grind together in the same measure. The powder is at least twice a day to Sevnk. It removes weakness of men. It is also a good remedy for diabetes control.

– Amla powder with honey eating is also increasing strength. Sesame mixed with amla empty stomach in the morning to eat a day for twenty days. It does not take long to restore the body fit and feel. This mix is healthy.

– Complain of a burning sensation when urinating Amla is a beneficial way. Anavl prepare juice. To taste the sugar, honey and ghee mixed drink will calm the irritation of urination.

– Amla Peoples bark and leaves of the same amount of worth ( 6 g ) with 40 ml of water to boil. Prepare the brew. Interval of four to five hours a day, Feed the patient. Fever will descend.

– Soak amla grinding ghee. This mixture Sungne blood or hemorrhage from the nose to get comfortable in leaving. It is prop nose put out.

दुखो हो दूर करने वाले नवरात्रि के ९ दिन के चमत्कारी दिव्य मंत्र

आज के समय में सुखो को पाने के लिए मनुष्य को इतनी मेहनत करनी पड़ती है कि कभी कभी मनुष्य अपने आपको असहाय सा महसूस करने लगता है और जीवन उलझा सा ही रह जाता है। इसीलिए यहाँ पर कुछ ऐसे नवरात्रे के मन्त्र दिए जा रहे जो आपके जीवन में से आपकी समस्याओ का हमेशा के लिए निवारण कर देंगे।

इन मंत्रो से आप अपनी विपरीत परिस्थितियो को भी अनुकूल परिस्थितियो में बदल सकते है।  यश, सुख, समृद्धि, पराक्रम, वैभव, बुद्धि, ज्ञान, सेहत, आयु, विद्या, धन, संपत्ति, ऐश्वर्य सभी की प्राप्ति के लिए इन मंत्रो का जाप अवश्य करे।

1. रक्षा पाने के लिए :

शूलेन पाहि नो देवि पाहि खंडे न चाम्बिके।

घण्टास्वनेन न: पाहि चापज्यानि: स्वनेन च।।

2. विपत्ति-नाश के लिए :

शरणागतदीनार्तपरित्राणपरायणे।

सर्वस्पापहरे देव‍ि नारायणि नमोस्तुते।।

3.सुलक्षणा पत्नी की प्राप्ति के लिए :

पत्नी मनोरमां देहि मनोवृत्तानुसारिणीम्।

तारिणी दुर्गसंसारसागरस्य कुलोद्भवाम।।

4. नाश तथा भक्ति की प्राप्ति के लिए : 

नमेभ्य: सर्वदा भक्त्या चण्डिके दुरितापहे।

रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषो जहि।।

5. हर प्रकार के ‍कल्याण के लिए :

सर्वमंगल्यमांगल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके।

शरण्ये त्र्यंबके गौरी नारायणि नमोस्तुते।।

6. धन, पुत्रादि प्राप्ति के लिए :

सर्वबाधाविनिर्मुक्तो-धनधान्यसुतान्वित: पापों।

मनुष्यों मत्प्रसादेन भविष्यति न संशय:।।

7. बाधा व शांति के लिए :

सर्वबाधाप्रमशन: त्रैलोक्याखिलेश्वरि।

एवमेव त्वया कार्यमस्यद्धैरिविनाशनम्।।

8. मोक्ष की प्राप्ति के लिए :

त्वं वैष्णवी शक्तिरन्तवीर्या।

विश्वस्य बीजं परमासि माया।

सम्मोहितं देवि समस्तमेतत्

त्वं वै प्रसन्ना भूवि मुक्ति हेतु:।।

Special 20 plants, these diseases are the work of a powerful Medicine

Special 20 plants, these diseases are the work of a powerful Medicine

All sorts of plants and herbs is used in tribal rituals. All of these herbs in rural therapy are also used. Tribal is worship before using herbs. It is believed that the galenic effective capacity is doubled. These herbs – herbs and their properties lobbying, and modern science has confirmed. Let us know these 20 herbs – herbs and various prescriptions used by tribal…

Bent grass – Grass lawn grass is called. According to the daily intake of Aboriginal provides physical elation. The body does not feel tired. Tribal nose bleeds fresh and green grass juice in the nostrils of the nose to drop 2-2 drop, which stops epistaxis.

Akona – Madar or attractive it says, putting the milk on the wounds heal wounds quickly.

Corn – Corn field strength and energy to the body. The drug jaundice goes away. Corn seeds, silk- like hair, the awesome medicinal properties of maize leaves are mine.

Rough chaff tree – it is also called rough. The dried seeds are considered effective for weight loss. This stems from the twigs are strong teeth.

Oleander – oleander are considered to be effective for the flu. Snakebites and scorpion bites tribal herbal knowledge to use it.

Basil – Basil of microbial infection is considered to be the best medicine. Cold, cough and fever, psoriasis and shingles in addition to the use basil – is also in the treatment of scabies.

Agar – Women who have menstrual disorders. Agar is a specific medicine for them. Knowledgeable Aboriginal disorders herbal plant is to use Kevde.

Shami – Shami to remove body heat leaves are used. The problem of polyuria consumed in the juice of the leaves of Shami Is made.

Belptr – Aboriginal Belptr diarrhea and cholera control the work of the drug. To eliminate body odor is also used.

Arjuna bark – is regarded as the best in heart diseases Arjuna. Arjuna bark reduces body fat. So weight loss is also used as medicine.

Peepal – Kids Memory, and abdominal pain related to children’s rapid growth is found to be effective in the People.

Mandukparn – to improve children’s memory and to control Bldpreshr is used to Mandukparn.

Ashok – Ashok is boon for women. Betterment of the uterus, for the prevention of diseases related to menstruation is considered to be good at it.

Jaswant – it is also called Hibiscus. Stress on tribal flowers and use it to better sleep .

Shivlingi – pregnancies in women and infant Shivlingi seed is used for receipts.

Vidarikand – Tribal Purustw it and use it to increase the strength.

धर्म पालन से मिलने वाली सुख शांति के मार्ग

धर्म पालन से मिलने वाली सुख शांति के मार्ग

धर्म पालन से मिलने वाली सुख शांति के मार्ग

प्राचीनकाल में हमारे ऋषि-मुनियों ने कुछ नियम और कुछ ऐसे पौधों की खोज की थी जिसका हमारे जीवन को बेहतर बनाने में महत्वपूर्ण योगदान होता है। धर्म का पालन करने से कैसे और कौन से रोगों से मुक्ति रहा जा सकता है। यहाँ पर ऐसी १० बाते है जो आपके जीवन को सुख शांति के मार्ग पर प्रशस्त करेगी।

प्रात: काल के नियम – प्रात:काल जब निद्रा से जागते हैं तो सर्वप्रथम बिस्तर पर ही हाथों की दोनों हथेलियों को खोलकर उन्हें आपस में जोड़कर उनकी रेखाओं को देखते हुए एक देवमंत्र का एक बार मन ही मन उच्चारण करते हैं और फिर हथेलियों को चेहरे पर फेरते हैं।

जिस तरह सूर्य का उजाला पहले धरती पर फैल जाता है लेकिन सूर्य दिखाई नहीं देता उसी तरह जब हम आंखें खोल लेते हैं लेकिन हमारी चेतना में पूर्णत: जागरण नहीं हो पाते हैं ऐसे में उठते ही काम पर लग जाने से मन और मस्तिष्क को नुकसान पहुंचता है। इसीलिए कुछ देर रुककर देवमं‍त्र बोलकर पहले मस्तिष्क को अपनी जाग्रत अवस्था में आने दें उसके बाद ही मस्तिष्क में पहले सबसे अच्छा मैसेज डालें और फिर दूसरा कार्य या वार्तालाप करें।

स्नान नियम – ब्रह्मा ने सृष्टि रचना करने के बाद अपने दूत से कहा कि जाओ लोगों से कह दो कि वे दो बार नहाएं और एक बार भोजन करें। यही नियम है। लेकिन उस दूत की बात का पालन लोगों ने उल्टा किया। ऐसे में धर्माचार्यों ने एक नियम बनाया। वह नियम यह था कि संधिकाल में जब भी संध्यावंदन करें तो आचमन करना जरूरी है। तीर्थ या मंदिर में जब भी जाएं तो शरीर के सभी 9 छिद्रों को जल से अच्छी तरह धोकर जाएं तभी व्यक्ति पवित्र माना जाता है इसलिए पवित्रता के नियम बनाए गए।

संध्यावंदन या पूजा नियम – स्नान के बाद पूजा करने का नियम है। पूजा से मस्तिष्क और मन में शांति और मजबूती का विकास होता है। कैसे? पूजा में फूल चढ़ाते हैं, कपूर जलाते हैं, सुगंध फैलाते हैं। पंचामृत ग्रहण करते हैं।

पूजा करते वक्त कपूर जलाया जाता है। कपूर से वातावरण शुद्ध होता है और हमारे प्राणों में ऑक्सीजन का विकास होता है। आयुर्वेद में कपूर के सैकड़ों गुणों का उल्लेख मिलता है। पूजा के बाद पंचामृत और चरणामृत पीने का नियम है। इसके भी कई लाभ हैं। इसमें तुलसी, दूध, दही आदि का प्रयोग होता है, जो कि हमें हर तरह के रोगों से बचाकर रखता है।

भोजन के नियम – ‘जैसा खाओ अन्न, वैसा बने मन’- यह हिन्दू धर्म की प्रसिद्ध कहावत है। भोजन से केवल भूख ही शांत नहीं होती बल्कि इसका प्रभाव तन, मन एवं मस्तिष्क पर पड़ता है। एक प्रसिद्ध लोकोक्ति है- ‘सुबह का खाना स्वयं खाओ, दोपहर का खाना दूसरों को दो और रात का भोजन दुश्मन को दो।’

उपवास के नियम – उपवास का मुख्य उद्देश्य आंतों (पेट) को आराम देना एवं रसना (जिव्हा) संयम के साथ-साथ आध्यात्मिक उन्नति करना है। आत्मिक लाभ के साथ ही उपवास से शारीरिक लाभ मिलते हैं। उपवास करने से आंतों को पूर्ण आराम मिलता है। निराहार रहने से शरीर में जमा वसा (ग्लाइकोजन) एवं स्टार्च का पाचन हो जाता है जिससे मोटापा नहीं बढ़ता।

संस्कारों का पालन – संस्कार हमारे जीवन को सभ्य और सुसंस्कृत बनाने का एक तरीका है। संस्कारहीन व्यक्ति पशुवत है। हमारे ऋषि-मुनियों ने सोच-समझकर ऐसे संस्कार निर्मित किए जिनका विज्ञान से भी संबंध सिद्ध होता है। संस्कारों के प्रमुख प्रकार 24 बताए गए हैं जिनमें से 16 ही अब प्रचलन में हैं।

ज्योतिष और वास्तु के नियम – जहां मंदिर, पीपल, बढ़ और नीम का वृक्ष एक ही जगह हो वहां घर होना चाहिए। घर की दिशा पश्‍चिम, वायव्य, उत्तर या ईशान में होनी चाहिए। घर के अंदर के वास्तु भी नियमों के अनुसार होना चाहिए।

दूसरी बात तथाकथित ज्योतिषियों और उनकी किताबों से दूर रहें। उनका ज्ञान आपके जीवन में भ्रम और डर को बढ़ाकर नकारात्मक शक्तियों को उभार देगा। ज्योतिष ज्ञान का संबंध भी वास्तु से होता है। ग्रह-नक्षत्रों का हमारे जीवन पर प्रभाव पड़ता है लेकिन उसी प्रभाव से बचने के लिए ही घर को वास्तु अनुसार बनाया जाता है। इसके अलावा आप धर्म के नियमों का पालन करते हैं तो किसी भी ग्रह-नक्षत्र का बुरा प्रभाव आपके जीवन पर नहीं पड़ेगा।

दान और सेवा – दान और सेवा करने का मनोवैज्ञानिक और सामाजिक कारण है। दान करने से मन की ग्रंथियां खुलती हैं। व्यक्ति के प्रति आसक्ति का भाव समाप्त होता है। आसक्ति का भाव नहीं रहने से व्यक्ति को किसी भी प्रकार का संताप नहीं होता। रोग और शोक भी शरीर से चिपक नहीं पाते। दूसरा, सेवा करने से आत्मविश्वास बढ़ता है।

अत: दान और सेवा एक ऐसा कार्य है जिससे जहां व्यक्ति को शारीरिक और मानसिक लाभ मिलता है वहीं वह देवताओं की नजरों में उठ जाता है। देवताओं का प्रिय बनना ही आध्यात्मिक लाभ है।

तीर्थ भ्रमण और उत्सव – जीवन में आए हैं तो चारों धाम की तीर्थ करना जरूरी है। तीर्थ के कई लाभ हैं। तीर्थ से ही वैराग्य, समृद्धि और सौभाग्य की प्राप्ति होती है। उत्सव, त्योहार या पर्व को मनाने से जीवन में नकारात्मकता का नाश होता है और खुशहाली बढ़ती है। हंसी- खुशी और प्रसन्नता से ही सुख-शांति और समृद्धि का जन्म होता है।

कुतर्क और असत्य से बचें – सत्संग का अर्थ होता है सत्य के साथ रहना। कुविचार व तर्क के साथ नहीं, झूठ के साथ नहीं, विरोधाभास के साथ नहीं, धर्म का अपमान करने वाले के साथ नहीं, कुमति के साथ नहीं, नास्तिक के साथ नहीं और विधर्मी के साथ भी नहीं। ये सारे के सारे आपके जीवन को भटकाने और असफल करने वाले तत्व हैं।

मार्च में जन्में जातकों का स्वभाव एवं भविष्य

मार्च में पैदा होने वाले लोगों के लिए जीवन का स्वर्णिम काल होता है अर्थात मार्च में जन्मे बालक न केवल कला में महारत लिए होते हैं बल्कि उनका व्यक्तित्व  इस कदर आकर्षक होता है कि हर कोई उनका प्रशंसक बन जाता है। ये स्वभाव से बेहद  सरल और मेधावी होते हैं। इन जातकों पर प्रमुख रूप से देवगुरु बृहस्पति की मीन राशि का प्रभुत्व होता है। कुछ सीमा तक गुरु के अलावा नेपच्यून ग्रह का प्रभाव भी इस माह पैदा होने वाले जातकों में पाया जाता है।  इस महीने पैदा होने वाले जातकों को शुक्र की महादशा शुभफलदायी नहीं होती।

साथ ही मंगल सर्वाधिक फलदायी होता है। इसकी महादशा  यदि मार्च में  पैदा होने वाले जातकों के लग्न में गुरु होता है, तो ये जातक पीत वर्ण, बड़ी-बड़ी आंखें, उन्नत ललाट, सुन्दर केश व दांत छोटे-छोटे व प्रथम मिलन में ही आकर्षित कर लेने वाला व्यक्तित्व होता है। स्वभाव से बड़े सरल व सहज होते हैं।

मेधावी और श्रद्धालु स्वभाव –

इस माह जन्मे जातक असाधारण रूप से मेधावी व श्रद्धालु भाव के होते  हैं, लेकिन एक सबसे बड़ी कमी यह होती है कि अपने लक्ष्य के प्रति लापरवाह होते हैं। अस्वाभाविक रूप से किसी मददगार या शत प्रतिशत अनुकूल हालात का इंतजार करने के अभ्यस्त होते हैं। मीन राशि वाले जातकों की कुंडली में मंगल तथा चंद्रमा शुभ होते  हैं। ऐसे जातक देवगुरु की प्रकृति के अनुसार शिक्षा, शास्त्रार्थ, धार्मिक कार्यों में रूचि के अलावा वाद-विवाद में प्रवीण होते  हैं। कर्म की बजाय भाग्य पर ज्यादा विश्वास करते हैं।

कला प्रेमी और चित्ताकर्षक –

मार्च माह में पैदा होने वाले जातक आर्थिक मामलों में लचीले व स्वभाव से सहिष्णु होते हैं। इनके साथ बुराई करने वाले के साथ भी भलाईपूर्ण व्यवहार करते हैं। ऐसे जातकों का पारिवारिक जीवन सुखमय होता है। लेखन, नाटक, संगीत, कला आदि के क्षेत्र में रूचि रखते हैं लेकिन समय-समय पर अपने शौक में परिवर्तन करते रहते हैं। धनागम निरंतर होता है लेकिन इनके पास टिकता नहीं है। धीरे या देर से ही सही ये अपने लक्ष्य को प्राप्त कर लेते हैं। मार्च में पैदा होने वाले लोग उच्च तकनीकी शिक्षा, चिकित्सा, वित्त व बैंकिंग क्षेत्र में विशेष रूप से कामयाब रहते हैं।

इनके स्वामी ग्रह गुरु होते  हैं, लिहाजा यदि कुंडली में इनकी स्थिति अच्छी हो तो कुंडली के कई प्रकार के दोष स्वयं समाप्त कर देते हैं। कुंडली में अच्छी स्थिति में न होने या जातक द्वारा अमर्यादित व्यवहार के कारण गुरु कुपित होकर कई प्रकार की परेशानियों के कारक हो जाते हैं। यदि गुरु अनुकूल परिणाम नहीं दे रहे हों तो इस माह जन्मे लोगों को भगवान विष्णु की आराधना, धार्मिक पुस्तकों का दान, गरीब बच्चों के लिए पुस्तकों और छात्रवृत्ति की व्यवस्था करनी चाहिए।

रोजमर्रा की परेशानियो से निजात पाने के उपाय

हमारे जीवन में परेशानिया आती और जाती रहती है लेकिन जिस दिन आप खुश और प्रेम में होते है उस दिन आपका मन करता है की आप नृत्य करे।  ऐसा कहा जाता है कि सुबह हंसना ही सच्ची प्रार्थना है क्योकि जब आप हंसते हो तो सारी प्रकृति आपके साथ हंसती है। इस तरह आप अपने जीवन से दुखो का विनाश कर सकते है।  जीवन में हंसी से मूल्यवान वस्तु कुछ भी नहीं है क्योकि आप इसे पेसो से नहीं खरीद सकते है।

जीवन सुखो और दुखो का मेला होता है जंहा दुःख के बाद सुख जरुर आते है।  यदि आपने अपने जीवन में हंसी के मूलमंत्र को अपना लिया तो आपके जीवन में दुःख कभी नहीं आयेंगे। कभी-कभी आप अपने आपको नहीं देखने के लिए या कुछ सोचने से बचने के लिए हंसते हो लेकिन जब आप हर क्षण यह देखते हो और अनुभव करते हो कि जीवन हर क्षण है और जीवन का हर क्षण अपराजय है तो आपको कोई परेशान नहीं कर सकता।

हंसने से हमारे मन में नकारत्मक विचार नहीं आते है क्योकि नकारात्मक विचारों के आने का एकमात्र कारण तनाव है। यदि आप किसी दिन बहुत तनाव में हों तो आपमें नकारात्मक विचार आने लगेंगे और आप परेशान हो जाएंगे। इन विचारों, जिनका कोई अर्थ नहीं है, से पीछा छुड़ाने के स्थान पर आप उन बिंदुओं को, कारणों को खोजें जिनके कारण ये विचार आ रहे हैं। यदि स्रोत स्वच्छ हैं तो मात्र सकारात्मक विचार ही आएंगे। हमें जो जैसा है उसे वैसा ही देखने की आवश्यकता है, विषय और पूर्णता के साथ। यह जीवन के लिए सारभूत है। जब आपमें ऐसा होने लगे तो आपके जीवन में सही अर्थों में हंसी जन्म लेगी।

चैत्र माह – देवी मंत्र ध्यान से काम होंगे सफल

चैत्र माह - देवी मंत्र ध्यान से काम होंगे सफलहिन्दू धर्म पंचांग के अनुसार 17 मार्च से चैत्र माह शुरू हो रहा है। इस समय में हिन्दू धर्म परंपराओं में जगतजननी देवी दुर्गा के अलग-अलग स्वरूप पूजनीय हैं।इसके लिए देवी उपासना के विशेष मंत्र जप का पूरे चैत्र माह में सवेरे बोलने का खास महत्व बताया गया है।

इसी माह के शुक्ल पक्ष (31 मार्च) की शुरूआत देवी भक्ति की 9 शुभ रातों यानी  नवरात्रि से होती है और यह काल हर मनोरथ पूरा करने वाला माना गया है। शुभ काल में हर सुबह ही देवी स्मरण हर काम व मकसद सफल बनाने वाला माना गया है।

दरअसल, इंसानी जीवन की अहम इच्छाओं में एक है – सफलता, जिसे पाने के लिए बेहद जरूरी है – ज्ञान। ज्ञानशक्ति ही मन को संकल्पित और चरित्र को उजला बनाकर कामयाबी के शिखर तक पहुंचाती है।

आप भी अगर ज्ञान और कौशल से सफल व शक्ति संपन्न बनना चाहते हैं, तो इस देवी मंत्र का स्मरण देवी के नीचे बताए तरीके से पूजा के बाद स्फटिक की माला से यथाशक्ति या 108 बार जरूर करें-

– स्नान के बाद देवी मंदिर या घर में देवी प्रतिमा की कुंकुम, फूल, अक्षत, लाल सूत्र व लाल वस्त्र चढ़ाकर मिठाई का भोग लगाएं।

– पूजा के बाद मंदिर में ही दीप जलाकर आसन पर पूर्व दिशा की ओर मुख कर बैठें और यह मंत्र ध्यान करें-

विद्या: समस्तास्तव देवि भेदा: स्त्रिय: समस्ता: सकला जगत्सु।

त्वयैकया पूरितमम्बयैत् का ते स्तुति: स्तव्यपरा परोक्ति:।।

– मंत्र ध्यान के बाद देवी आरती करें और सुख व सबलता की प्रार्थना करें।