Category Archives: Shani Dosh

shani ki saade saati

शनि की साढ़ेसाती में किस अंग पर पड़ता है बेहद असर

शनि की ज्योतिष शास्त्र में बहुत ही अहम् भूमिका है। शनि को नवग्रहों में न्यायाधिपति माना जाता है। ज्योतिषी फलकथन में शनि की स्थिति एवं दृष्टि बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान रखती है। चाहे वो कोई भी जातक हो उसकी जन्मपत्रिका का परिक्षण कर उसके भविष्य के बारे में संकेत करने के लिए जन्मपत्रिका में शनि के प्रभाव का आंकलन करना अति आवश्यक है।

शनि स्वभाव में क्रूर एवं अलगाववादी ग्रह है। जब यह जन्मपत्रिका में किसी अशुभ भाव के स्वामी बनके किसी भी शुभ भाव में स्थित होते है तब जातक के अशुभ फल में अतीत वृद्धि कर देते है। शनि एक ऐसा ग्रह है जो कि मंद गति से चलता है। शनि एक राशि में ढाई वर्ष तक रहता है। शनि की तीन दृष्टियां होती है- तृतीय, सप्तम एवं दशम।

ऐसा माना जाता है कि शनि जन्मपत्रिका में जिस भाव में स्थित होते है वहा से तीसरे, सातवे और दसवे भाव पर अपना दृष्टि प्रभाव रखते है। ज्योतिष अनुसार शनि दुःख के स्वामी भी है एवं शनि के शुभ होने पर व्यक्ति सुखी और अशुभ होने पर सदैव दुखी चिंतित रहता है।

जो शुभ शनि होते है वो अपनी साढ़ेसाती एवं ढैय्या में जातक को आशातीत लाभ प्रदान करते है वही दूसरी ओर अशुभ शनि दोष अपनी साढ़ेसाती एवं ढैय्या में जातक को घोर एवं असहनीय कष्ट देते है। साढ़ेसाती की अवधि के दौरान शनिदेव जातक के विभिन्न अंगों पर अपना शुभाशुभ प्रभाव डालते है। आज के लेख में हम आपको बताएगे कि साढ़ेसाती के दौरान शनि जातक के किस अंग को कितनी अवधि तक प्रभावित करते है।

  1. मस्तिष्क- 10 माह- सुखदायक
  2. मुख- 3 माह 10 दिन- हानि
  3. दाहिना नेत्र- 3 माह 10 दिन- शुभ
  4. बायां नेत्र- 3 माह 10 दिन- शुभ
  5. दाहिनी भुजा- 1 वर्ष 1 माह 10 दिन- विजय
  6. बायीं भुजा- 1 वर्ष 1 माह 10 दिन- उत्साह, पराक्रम
  7. ह्रदय- 1 वर्ष 4 माह 20 दिन- धनलाभ
  8. दाहिना पैर- 10 माह- यात्रा
  9. बायां पैर- 10 माह- संघर्ष
  10. गुदा- 6 माह 20 दिन- मानसिक चिन्ता व कष्ट

Like and Share our Facebook Page.

Astrology solution to appease Saturn

shani shanti pooja

Saturn is one of the influential planet among the 9 planets. Adds malefic effects of Saturn can ruin your life badly and if it is not in your favor then you may loss everything in your life. Opposite effect of Saturn can make your life miserable and obstacles, facing troubles, misfortunes may become part of your life. To refrain from all these impact shani shanti puja is the solution.

Saturn is known as 6th most important celestial body who is elder brother of god of death yama. Saturn is assumed as too beneficial as favorable condition of Saturn can switch from the miserable life to royal life. Saturn’s favorable condition gives you mental peace, success, prosperity fame and all the desired things and fulfill your all the wishes. Saturn’s unfavorable position can cause of the number of troubles in your life like you may get lose in your business, your career may spoil, you may be come under many disease and can get many health issues. Malefic effects of shani are dangerous. Saturn is responsible for Endeavour, stress, and all the ill effect of it.

Worship of Saturn is known as ritual in our country to please lord shani. In one’s horoscope shani dasha take place according to the one’s deeds. To appease Saturn in your horoscope consult with astrologer is the advantageous solution. To please Saturn shani shanti pooja is performed. Online shani shanti pooja is also provided by the astrologer thereby with the guidance of him you can perform it at home also.

Shani puja with Vedic astrology

shani puja

A person that is effected with shani dosh, it is must to appease Saturn. Shani puja is done to appease Saturn. Saturn is regarded as a malefic planet that may causes of the your down fall. It is considered that shani puja is sought to bring happiness in home and mental health. to remove all the disease from the home shani puja is performed.

In Vedic astrology Saturn is also known as shanishvara. The temperament of shani is airy type means at any time it can change the direction to the happiness or sorrows. In astrology Saturn is knows as feeble god who has very big physique, long teeth and tawny eyes. Nature of shani is known of anger. It is said that if Saturn can make you king then it can also make you bagger also. It is completely depends on your natives deeds or karma. If Saturn is in favorable position in your horoscope then you can say that you are under the shelter of Saturn planet and it will bring all the happiness and success in your life.

Shani puja

To appease Saturn planet shani puja is must and with the guidance of astrologer you can follow it. It is said that recite of shani mantra daily facing to west removes your all trouble and worries and you can achieve a life that one desires. Shani puja can be performed by Vedic astrology where a specialist astrologer can guide you by online or personally.

Significance of shani

Shani is known for courage, restriction, awareness, responsibilities, and wisdom at born time, endurance, humanity, strength and other virtues in a person. Shani is known as dark side of a person if that person has shani dosh. Shani is known as a giver as well as destroyer. If someone from true heart chant shani mantra then all the worries of that person get remove.

 

Remove the worse effect of shani dosh

shani dosh

Shani dosh can ruined your life and may create many troubles in your life. It is said that if Saturn position is against you in your life then it van make your life miserable and you will become part of obstacles, misfortunes and troubles. Saturn is known as the one of the angriest planet among the nine planets. Bad effect of Saturn can destroy your business and can strip all the happiness of you. It is also said that if Saturn position is in your favor then you will get success in each step and will get all the happiness of this world.

Shani shanti puja gives you a guard protection against the Saturn’s evil effect and keep you safe. 6th celestial body that is called Shanivaar is son of the Surya and wife of Saturn is chaaya. He is elder brother of the death god Yama.

Shani dev also have extremely good effects also. Favorable position of Saturn brings fame in your life, in every task you get success, prosperity, health, wealth you gain. Otherwise Saturn planet gives so many troubles and may become the example of tragedies in your life. if Saturn is placed in your horoscope at favorable position then it brings success in your career and in your business.

It is believed that shani dev has the strongest malefic effects and also a teacher who teaches us endurance, endeavour, patience, efforts, humanity, delay, discipline, misery, sorrow, thoughts, happiness, restrictions, longevity, old age.

If you have badly affected by shani dosh then shani shanti puja has great effect to remove your all worse effect and make place of Saturn in your horoscope favorable. You can contact with specialist astrologers that know this technique or puja or online services are also available.

 

Grah dosh

Grah dosh

According to astrology the Sun, Tue, Wed, Thu, Sun, Moon, Saturn, Rahu and Ketu are the nine planets. Normally Jupiter (Guru), Mercury and the moon is considered auspicious planet and the Sun, Tue, Saturn, Rahu and Ketu are considered inauspicious planet. Inauspicious planets are considered to be pathogenic. In contrast, all the planets and their bad affect Grah dosh specific release.

Between humans and the environment of planets adversely affect the energy flow. The effect of this imbalance of various diseases, disorders thrive. Pitta promotes the sun, hence the weak and be strong, both in case a problem arises.

Sun heart, stomach, bones and regulates the right eye. Because of the side effects headache, alopecia, fever, heart disease, irritability, vision, disease, dermatological, circulatory disorders, leprosy etc. The disease grows.

Crash wrath is of the sun, Stubby, Visby, theft and the risk of snakebite. Regular chanting of mantras is diagnosed by the sun.

Moon cuff trend is a combination of factors is considered including arthritis. Thus, mental disorders and emotional problems arise from its perversity and insomnia occurs and their Moon homeopathy, diarrhea, jaundice, tuberculosis. Dermatology.The disease gives rise to fear. Moon and gynecology Tue gives rise to a wide variety of yoga.

Tue is show bile factor. It is extremely violent and creates excitement. The head, marrow, bile, hemoglobin and regulates the uterus. Therefore related to outbreaks of disease occur Tue. Tue accident, injury, sprains, burns, surgery, hypertension, kidney stones, weapons and poisons that damage.

Wed tridosha (cough, vata, and pitta) is the parent. In case of perversity of Mercury with the Moon generates several mental disorders. Wed – skin, throat, nose, lungs and chiefs of frontal considered. This myopathy, mental miserable condition, hate speech, generates excitement and the diseases of these organs. Mercury is not the right conditions are awful nightmares.

Jupiter belongs to the cuff. The liver, spleen, pancreas, regulates the ears and fat. Mahdi distortions resulting from these organs are seen throughout the planet. The planet, obesity increases. The gross Tamas and inertia arises.

Vata and Pitta factor is the planet Venus. Regarding the planet lust (Sachs) is. The body of aquatic planet endocrine glands affects the entire disorders, Nephrology, lethargy, fatigue, etc. thrive. Thank disorders can be used to optimize work.

Saturn is the cuff nature and it includes some body parts as Chest, legs, feet, anus, organs, etc. The nervous system is the father. Side effects are extremely deadly and incurable disease. Cancer, strokes, tumors, fatigue, mental disorders, etc. due to the side effects of the disease are similar to Saturn.

Rahu and Ketu are two shadow planets. Rahu causes ulcers and fear the unknown. It is fear of snakebite. This period is mainly due to Srpyog places making life hell. Rahu with Moon gives rise to various phobias.

Ketu side effects can occur due to a variety of diseases. Tue, Ketu also faces the same procedure. Kudos is to humans when these planets are favorable, Rkiti, money – cereal, luck factor.

By removing the perversity of all these planets to achieve their fitness related equipment should hold mantras, or should. Gayatri Mantra is chanting the planet to continue to offer favorable terms to their favor.

जाने शनिदेव की दृष्टि से क्यों डरते है -

REMEDY FOR SHANI DASHA

शनि एक पाप ग्रह माना जाता है। शनि की वक्र दृष्टि से अच्छे-भले मनुष्य का नाश हो जाता है। ज्योतिष विज्ञान के अनुसार शनि की टेढ़ी नजर यानि वक्र दृष्टि हर व्यक्ति के जीवन में हलचल मचाती है। सूर्य पुत्र शनि देव का नाम सुनकर लोग सहम से जाते हैं। शनि की टेढ़ी चाल से किसे डर नहीं लगता, उनके क्रोध से मनुष्य तो क्या देवता भी थर-थर कांपते हैं, यहां तक की भगवान श्री गणेश पर दृष्टि पड़ते ही उनका सिर कट गया। जानें आगे क्या हुआ

सनातन धर्म में शास्त्रों के अनुसार भगवान श्री गणेश को भगवान श्री कृष्ण चन्द्र का ही अवतार माना गया है। ब्रह्मवैवर्त पुराण के अनुसार पुत्र प्राप्त करने की चाह से मां पार्वती ने भगवान श्री कृष्ण चन्द्र जी का ध्यान किया। अपने भक्त की पुकार सुन कर भगवान श्री कृष्ण चन्द्र जी ने वृद्ध ब्राह्मण का रूप धारण कर माता पार्वती को बताया कि वह गणेश रूप में उनके पुत्र बनकर अवतरित होंगे।

इस घटना के उपरांत मनमोहनी छवी का बालक मां पार्वती जी के समक्ष अवतरित हुआ। उस बालक के मुख मंडल पर इतना तेज था कि उसके आकर्षण में बंध कर समस्त देवी-देवता और ऋषि-मुनि बालक के दर्शनों हेतू आ गए। जब शनिदेव को ज्ञात हुआ की सभी देवी-देवता और ऋषि-मुनि मनमोहनी छवी के बालक के दर्शन करने गए हैं तो वो भी श्री गणेश के दर्शनों के अभिलाषी बन कर कैलाश पर्वत पर पंहुच गए।

वे खुशी-खुशी कैलाश पर्वत पर पंहुच तो गए मगर उन्होंने बालक गणेश के दर्शन नहीं किए क्योंकि शनिदेव को उनकी पत्नी का शाप था कि उनकी दृष्टि सदैव नीची ही रहेगी, जिस पर उनकी दृष्टि पड़ेगी उसका सिर कट जाएगा। इस भय से की उनके दर्शन करने से बालक का कोई अहित न हो जाए वह आंखे फेरे खड़े रहे।

माता पार्वती को बहुत आश्चर्य़ हुआ की सभी देवी-देवता और ऋषि-मुनि उनके पुत्र की मनमोहनी छवी को निहार रहे हैं वहीं शनि देव नजरे नीचे किए उनके पुत्र से दूरी क्यों बनाए हुए हैं। उन्होंने शनिदेव को अपने समीप बुलाया और कहा,” शनिदेव सभी देवी-देवताओं और ऋषि-मुनियों ने मेरे पुत्र के दर्शन कर लिए हैं बस आप ही रह गए हैं। लिजिए गोद में उठा लें बालक को।”

शनिदेव बोले,” माफ करें माता मैं चाह कर भी इस मनमोहने बालक को अपनी गोद में उठा नहीं सकता और न ही इस पर अपनी दृष्टि डाल सकता हूं।”

माता पार्वती हैरानी से शनि देव की ओर देखने लगी। शनिदेव ने उन्हें अपनी पत्नी द्धारा दिए गए श्राप की बात बताई। किंतु माता बनने का सौभाग्य पाकर माता पार्वती बहुत हर्षित थी। उन्होंने शनिदेव की एक न सुनी और बालक गणेश के दर्शन करने को कहा।

माता पार्वती के प्रेमपूर्वक किए गए अग्रह को शनिदेव टाल न सके और उन्होंने बालक पर अपनी दृष्टि डाल दी। शनिदेव के बालक गणेश पर दृष्टि डालते ही उनका सिर कट गया। अपने पुत्र की ऐसी दशा देख माता पार्वती विलाप करने लगी। भगवान श्री हरि विष्णु जल्दी से गए और जाकर एक हाथी के बच्चे का सिर काटकर ले आए और उसे बालक गणेश के सिर पर लगा दिया। उसी दिन से श्री गणेश गजानन कहलाए।

 

28 को शनि जयंती पर करे ये उपाय

Shani-Jayanti

हिन्दू ज्योतिष के अनुसार शनि को क्रूर ग्रह माना गया है। ऐसा माना जाता है कि शनि ही इंसान को उसके अच्छे व बुरे कर्मों का फल देता है। इसलिए शनिदेव को न्यायाधीश भी कहा जाता है। अगर आप भी शनि दोष से प्रभावित हैं और उसकी शांति चाहते हैं तो 28 मई, बुधवार को शनि जयंती इसके लिए उपयुक्त अवसर है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जिस किसी की कुंडली में शनि प्रतिकूल स्थान पर होता है उसे जीवन भर दु:ख भोगने पड़ते हैं। साढ़े साती व ढैय्या के रूप में शनि हर व्यक्ति काजीवन कभी न कभी प्रभावित अवश्य करता है। ऐसा नहीं है कि शनि सिर्फ अशुभ फल ही प्रदान करता है, जिस पर भी शनिदेव की कृपा हो जाए उसे जीवन भर कभी कोई परेशानी नहीं होती। अगर आप भी शनिदेव को प्रसन्न करना चाहते हैं तो कुछ विशेष पूजन, तंत्र-मंत्र-यंत्र व टोने-टोटके से यह संभव है। कुछ उपाय इस प्रकार है-

1- धर्म शास्त्रों में शनि देव के अनेक नाम बताए गए हैं। अगर शनि जयंती के दिन इन नामों से शनि देव का पूजन किया जाए तो शनिदेव अपने भक्त की हर परेशानी दूर कर देते हैं। ये प्रमुख 10 नाम इस प्रकार हैं-

कोणस्थ पिंगलो बभ्रु: कृष्णो रौद्रोन्तको यम:।
सौरि: शनैश्चरो मंद: पिप्पलादेन संस्तुत:।।

अर्थात: 1- कोणस्थ, 2- पिंगल, 3- बभ्रु, 4- कृष्ण, 5- रौद्रान्तक, 6- यम, 7, सौरि, 8- शनैश्चर, 9- मंद व 10- पिप्पलाद। इन दस नामों से शनिदेव का स्मरण करने से सभी शनि दोष दूर हो जाते हैं।

2- कांसे की कटोरी में तेल भरकर उसमें अपनी परछाई देखकर दान करें।

3- सरसों के तेल में लोहे की कील डालकर दान करें और पीपल की जड़ में तेल चढ़ाएं।

4- शनि जयंती के दिन सूर्यास्त के समय जो भोजन बने उसे पत्तल में लेकर उस पर काले तिल डालकर पीपल की पूजा करें तथा नैवेद्य लगाएं और यह भोजन काली गाय या काले कुत्ते को खिलाएं।

5- तेल का पराठा बनाकर उस पर कोई मीठा पदार्थ रखकर गाय के बछड़े को खिलाएं।

6- अभिमंत्रित शनि मुद्रिका (काले घोड़े की नाल की अंगुठी) मध्यमा अंगुली में धारण करें।

7- शनि की शांति के लिए नीलम रत्न युक्त शनि यंत्र गले में धारण करें।

8- लाल चंदन की माला को अभिमंत्रित कर शनिवार या शनि जयंती के दिन पहनने से शनि के अशुभ प्रभाव कम हो जाते हैं।

9- शमी वृक्ष की जड़ को विधि-विधान पूर्वक घर लेकर आएं। शनिवार के दिन श्रवण नक्षत्र में या शनि जयंती के दिन किसी योग्य विद्वान से अभिमंत्रित करवा कर काले धागे में बांधकर गले या बाजू में धारण करें। शनिदेव प्रसन्न होंगे तथा शनि के कारण जितनी भी समस्याएं हैं, उनका निदान होगा।

१०- काले धागे में बिच्छू घास की जड़ को अभिमंत्रित करवा कर शनिवार के दिन श्रवण नक्षत्र में या शनि जयंती के शुभ मुहूर्त में धारण करने से भी शनि संबंधी सभी कार्यों में सफलता मिलती है।

कृष्ण मंत्र से करे शनि के दुष्प्रभाव को कम

कृष्ण मंत्र से करे शनि के दुष्प्रभाव को कम हिन्दू देव पूजा परंपराओं में जीवन में पुरुषार्थ (धर्म, अर्थ, काम व मोक्ष) प्राप्ति से जुड़ी ऐसी विघ्र और बाधाओं से पार पाने के लिए भगवान श्रीकृष्ण का स्मरण शुभ माना गया है। क्योकि सुख और दुःख व्यक्ति के जीवन का भाग होते है, इसीलिए जब भी व्यक्ति के जीवन में बुरा समय आता है तो वह विभिन्न प्रकार के उपाय करता है। कभी – कभी शनि का दुष्प्रभाव आपके जीवन को अस्त – व्यस्त कर देता है।

अतः यहाँ पर जीवन में संघर्ष पैदा करने वाले माने गए शनि दोष या कालसर्प दोष शांति के लिए आज विष्णु भक्ति के वैशाख माह व शनिवार संयोग में विशेष कृष्ण मंत्र बोलना शनि के साथ कालसर्प योग बनाने वाले राहु-केतु के ग्रह योगों से पैदा होने वाली पीड़ा शांति के लिए भी मंगलकारी माना गया है।

शनिवार को श्रीकृष्ण भक्त शनि की प्रसन्नता के लिए अचूक श्रीकृष्ण महामंत्र व सरल पंचोपचार पूजा विधि-

- सुबह स्नान के बाद घर में भगवान श्रीकृष्ण की प्रतिमा को जल व पंचामृत से स्नान के बाद केसरयुक्त चंदन, अक्षत, फूल, पीताम्बरी वस्त्र अर्पित कर माखन-मिश्री का भोग लगाएं और नीचे लिखे तीन मंत्रों का विषम संख्या यानी 1, 3, 5, 7, 11, 21 बार जप करें। एक माला यानी 108 बार जप करें-

- ॐ श्रीं नमः श्रीकृष्णाय परिपूर्णतमाय स्वाहा

- ॐ कृं कृष्णाय नम:

- ॐ नमो भगवते श्रीगोविन्दाय

इन मंत्रों के जप के बाद भगवान श्रीकृष्ण व भगवान विष्णु की आरती करें और अपार सफलता व यश की प्राप्ति होती है।