Category Archives: Festival

raksha bandhan

Rakshabandhan 2020: Information related to Rakshabandhan

The festival of Rakshabandhan which is also known as Rakhi in many places. On the day of Rakshabandhan, when a thread is tied on the brother’s wrist, the brother is willing to sacrifice his life to protect his sister. The history of Raksha Bandhan festival is considered to be quite old. Raksha Bandhan is associated with the Dev era, Mahabharata period and the Indus Valley Civilization. The full moon of the month of Shravan will be celebrated on 3 August 2020, the festival of Rakshabandhan. On the day of Rakshabandhan, Bahi will tie colorful ashes on her brothers’ wrist as a protective coat. Know the best time of Rakshabandhan:

  • Rakhi tying time: from 09:27:30 to 21:11:21
  • Duration: 11 hours 43 minutes
  • Rakshabandhan pm Muhurta: 13:45:16 to 16:23:16
  • Rakshabandhan Pradosh Muhurta: 19:01:15 to 21:11:21

Auspicious time

  • From 6:00 to 7:30,
  • 9:00 to 10:30,
  • From 3:31 to 6:41

Rahukkal – 7:30 am to 9:00 am (Do not tie rakhi during Rahukkal)

Know interesting information related to Rakshabandhan:

• There is a tradition of tying Raksha Bandhan to Raksha Bandhan and has been going on since Vedic period. When a person was tied a nada or thread of yarn called ‘Molly’ on the wrist during Yajna, war, hunting, new resolutions, and religious rituals. For more information you can talk to astrologer.

• According to Skanda Purana, Padmapurana and Srimad Bhagwat Purana, when Lord Vamana asked for three steps of land from Maharaja Bali and made him king of Patalalok, then King Bali also took the promise of God to be in front of him night and day. God was supposed to go to Lakshmi again after Vamnavatar, but God got trapped by giving this promise and he started living in the service of Bali in the abyss. On the other hand, Mata Lakshmi got worried about this. In such a situation, Naradji told Laxmiji a solution. Then Lakshmiji made Rakhi Dam her brother to King Bali and brought her husband with her. That day was the full moon date of Shravan month. Since then, this festival of Raksha Bandhan is in vogue.

• Lord Krishna once suffered a hand injury and blood flowed out. All this was not seen from Draupadi and she immediately tore the pallu of her sari and tied it in the hands of Shri Krishna and as a result the bleeding stopped. After some time when Draupadi dislocated by Dushasan, Shri Krishna extended the rip and paid the favor of this bond. This passage also underscores the importance of Raksha Bandhan.

Like and Share our Facebook Page.

shraavan month

Mythological stories related to holy Shravan month of Lord Shiva

The word Shravan means to listen, that is, to listen to a religion and understand its importance. Our Vedas are called Shruti. That is, such knowledge that the sages had heard from God or told to people or human race. The month of Shravan is considered for devotion and satsang. There are many such stories about the month of Shravan which is very popular. In today’s article, we will tell you two such mythological stories.

Lord Parshuram started worshiping Shiva in Shravan month

Lord Parshuram worshiped his deity Lord Shiva regularly this month by filling Ganga water in Kavand and took him to the Shiva temple and he offered that water on the Shivling. You can also know through indian astrology. That is, Lord Parshuram, who runs the tradition of Kavad, is also worshiped in the month of Shravan. Lord Parshuram used to worship Shiva by taking water in Kavand every Monday of the month of Shravan.

Shiva is especially fond of Shravan’s Monday. Worshiping Lord Ashutosh with Ganga water and Panchamrit in Shravan provides coolness. It is said that Lord Shiva’s fast and worship began in Shravan month only due to Lord Parashurama.

Why is Shravan month special for Mahadev?

When Sanat Kumaras asked Mahadev the reason to love them in the month of Savan, Mahadev Lord Shiva told that when Goddess Sati sacrificed her body with yoga power in her father Daksha’s house, before that Goddess Sati gave Mahadev husband in every birth. If you want to know more then talk to astrologer. Vowed to get as In her second birth, Goddess Sati was born as a daughter in the house of Himachal and Queen Maina by the name of Parvati.

Parvati fasted hard in the month of youth in the month of Savarn and remained happy and married her, after which this month became special for Mahadev.

Like and Share our Facebook Page.

maha shivratri

जानिये महाशिवरात्रि कब है और शुभ मुहूर्त

इस साल यानी कि 2020 में महाशिवरात्रि का पवित्र पर्व 21 फरवरी को आ रहा है। भगवान भोलेनाथ शिव शंकर को प्रसन्न करने का यह शुभ दिन सभी हिन्दू भक्तों के लिए विशेष होता है।

इस साल महाशिवरात्रि 21 फरवरी 2020 को शाम को 5 बजकर 20 मिनट से शुरू होकर यानी कि अगले दिन 22 फरवरी के दिन शनिवार को शाम सात बजकर 2 मिनट तक रहेगी क्योकि 22 तारीख को पंचक प्रारंभ हो रहा है इसलिए 21 फरवरी को ही महाशिवरात्रि मनाई जाएगी।

रात्रि प्रहार की पूजा शाम को 6 बजकर 41 मिनट से रात को 12 बजकर 52 मिनट तक होगी। इसके दूसरे दिन बहुत ही विधि विधान से पूजा की जाएगी। हर महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी के दिन आने वाली शिवरात्रि को सिर्फ शिवरात्रि कहा जाता है।

लेकिन फाल्गुन मास की कृष्ण चतुर्दशी के दिन आने वाली शिवरात्रि को महाशिवरात्रि कहा जाता है। हर साल में होने वाली 12 शिवरात्रि में सबसे महत्वपूर्ण महाशिवरात्रि मानी जाती है।

Like and Share our Facebook Page.

Dev uthani ekadashi

देवउठनी एकादशी पर इन कामो से बचे वरना बनेगे पाप के भागीदार

मुहूर्तः

एकादशी तिथि प्रारंभ : 7 नवंबर 2019 को 0 9:55 बजे से

एकादशी तिथि समाप्त : 8 नवंबर 2019 को रात्रि 12:24 बजे

9 नवंबर को व्रत पारण का समय : प्रात: 06:39 से 08:50 तक

मान्यता:

पौराणिक समय से ऐसी मान्यता है कि एकादशी का पर्व श्रीहरि विष्णु और उनके अवतारों के पूजन करने का पर्व है।

कहा जाता है कि अगर आप श्री हरी की उपासना करना चाहते है तो सबसे अद्भुत एकादशी कार्तिक महीने की एकादशी होती है। यह ऐसा दिन है जब भगवान श्रीहरि जागते है।

इसी वजह से इसे देव उठनी एकादशी भी कहा जाता है।

देव उठनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु चार महीने की लम्बी निंद्रा के बाद में जागते है। हिन्दू परम्पराओं के हिसाब से कहा जाता है कि इस दिन भगवान विष्णु के स्वरूप शालिग्राम की शादी तुलसी जी से होती है।

कहा जाता है कि एकादशी के दिन चावल नहीं खाना चाहिए क्योकि चावल खाने से मन चंचल होता है और प्रभु भक्ति में मन नहीं लगता है।

पुरानी कथाओ के हिसाब से कहा जाता है कि माता शक्ति के क्रोध से बचने के लिए महृषि मेघा ने शरीर त्याग कर दिया था। और उनका अंश पृथ्वी में समा गया था।

चावल और जौ के रूप में महर्षि मेधा उत्पन्न हुए इसलिए चावल और जौ को जीव माना जाता है।

ऐसी मान्यता है कि एकादशी के दिन सुबह दातुन करना वर्जित है लेकिन यह चीज संभव नहीं है। देवउठनी एकादशी के दिन किसी पेड़ पौधे पत्तिया और फूल तोडना ख़ास वर्जित है।

एकादशी के दिन हो सके तो उपवास करे अगर तबियत या बीमारी की वजह से उपवास नहीं कर सकते तो ब्रह्मचर्य का पालन करे। यह ऐसा दिन है जिस दिन संयम रखना बहुत जरुरी है।

पौराणिक समय से ऐसी मान्यता है एवं धार्मिक मान्यता भी है कि एकादशी के दिन बिस्तर पर नहीं बल्कि जमीन और सोना चाहिए।

एक तो एकादशी और दूसरा द्वादशी के दिन तुलसी की पत्तिया नहीं तोड़नी चाहिए।

एकादशी के दिन मांस और नशीली वस्तुओं का सेवन भूलकर भी ना करे। स्नान करने के बाद भी कोई भी चीज ग्रहण करे।

जो एकादशी के दिन झूठ बोलता है उसको पाप लगता है। कहा जाता है कि झूठ बोलने से मन दूषित हो जाता है और दुषिर भक्ति के साथ में पूजा नहीं की जाती है। एकादशी के दिन भूलकर भी क्रोध नहीं करे।

एकादशी के दिन अनाज, दालें एवं बीन्स खाने से परहेज रखे। अगर आपका मन है और शक्ति है तो आप एकादशी का अच्छे से फास्टिंग कर सकते है उसके लिए केवल पानी पिएं तो बहुत ही सर्वोत्तम है लेकिन ही व्यस्त है तो आप फल, दूध या फिर बिना अनाज वाली चीजे भी अच्छे से खा सकते है।

एकादशी का मुख्या उद्देश्य यह होता है कि शरीर की जितनी भी जरूरते है उन्हें कम से कम रखा जाए और जितना हो सके यानी कि ज्यादा से ज्यादा वक़्त आध्यात्मिक लक्ष्य की पूर्ति में ही खर्च किया जा सके।

देवउठनी एकादशी की सुबह घर पर भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए।

Like & Share: @astroyatra

Importance of Adhik Maas in Hindu Religion

What is Adhik Mass:-

Adhik Maas mean extra month or additional month within the lunisolar calendar is additionally referred to as Purushottam mass. Once it occurs in year than year have thirteen month rather than twelve month this further month is understood by numerous names: Adhik Maas, Mal Maas, Purushottam Maas, and Malimmacha. Indians follow 2 style of calendars is i.e. lunar and also the solar. A lunar month (Hindu) is on the average 29.5 days amount and also the month, is 30 or 31 days.

The satellite calendar year consists of 354 star days and astronomical year consists of twelve months, 6 minutes. Hence there’s a difference of eleven days between the satellite and astronomical year.

So in 3 years time this difference becomes regarding one month amount. So to match the 2 calendars, an additional month is extra. This is often the thirteenth month of the calendar, called ‘Adhik Maas’.

The Adhik Maas is extra once the Amavasya and also the surya Sankranti coincide.

What is to do throughout Adhik Maas:-

According to the Hindu scriptures, the subsequent things or activities have to to be done:

Vrat -According to the Bhavishyottar puran, the Lord Krishna Himself is that the Phal Daataa, Bhokta and Adhishthaata. Thus Adhik Maas Vrat produces positive results.

The reading of Holy Scriptures – throughout the Adhik Maas the reading or being attentive to the Holy Scriptures is taken into account terribly fruitful.

Daan or punya – in keeping with the Devi Bhagvat, the Daan -Punya no matter is completed throughout Adhik Maas, brings smart results to the one whom.

Other things – Anushthan for obtaining prevent too serious diseases, donations throughout eclipse etc. Parikrama of Govardhan giriraj, Bhajan, Keertan, giving food to Sadhoos, Saints or Brahamans etc.

It is written within the Bhavishyottar Sanskrit literature that Sri Krishna Himself has aforesaid relating to Adhik Maas Vrat that by finishing up the Vrat with the only aim of worshiping God, through fast, cleanliness, charity, puja etc. deserves are no inheritable that turn out unfailing results and every one forms of calamities are overcome.

दीपावली पर करे राशि अनुसार उपाय और करे माँ लक्ष्मी को प्रसन्न

 

दीपावली भारतीयों का सबसे बड़ा पर्व है इस दिन भगवान राम 14 साल का वनवास पूरा करके अयोध्या नगरी यानि की अपने घर लौटे थे और इस खुशी में पूरी अयोध्या नगरी ने  उनके आने की  खुशी में अपने घरो में दिये जलाये थे और बहुत खुशिया मनाई थी।

इसी दिन से पुरे भारतवर्ष में कार्तिक मास की अमावस्या को दिवाली का त्यौहार पुरे हर्षो  उल्लास के साथ मनाया जाता है।

वर्ष 2015 में यह त्यौहार 11 नवम्बर को मनाया जायेगा। इस दिन महालक्ष्मी  जी की पूजा की जाती है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, इस दिन किए गए उपाय बहुत ही जल्दी शुभ फल प्रदान करते हैं। दीपावली पर राशि अनुसार उपाय करने से मां लक्ष्मी साधक पर प्रसन्न होती हैं और उसकी मनोकामना पूरी करती हैं। आज हम आपको दीपावली पर राशि अनुसार किए जाने वाले उपाय बता रहे हैं। ये उपाय बहुत ही सरल व अचूक हैं।

दीपावली पर करे राशि अनुसार उपाय और करे माँ लक्ष्मी को प्रसन्न

मेष राशि :मेष  राशि के जातक दीपावली  की रात स्फटिक या कलगटटे की माला से निचे लिखे मंत्र का १०८ बार जाप करे

॥ ॐ ऐ क्लीं सौ : ॥

वृषभ राशि:  वृषभ  राशि के जातक दीपावली  की रात स्फटिक या कलगटटे की माला से निचे लिखे मंत्र का १०८ बार जाप करे

॥ ॐ ऐ क्लीं श्रीं  ॥

और महालक्ष्मी जी के साथ साथ कमल के फूल का भी पूजन करे।

मिथुन राशि: मिथुन राशि के जातक दीपावली  की रात स्फटिक या कलगटटे की माला से निचे लिखे मंत्र का १०८ बार जाप करे

॥ ॐ क्लीं ऐ स :  ॥

लक्ष्मी और गणेश जी के पूजन के साथ दक्षिणावर्ती शंख की भी पूजा करे।

कर्क राशि : कर्क  राशि के जातक दीपावली  की रात स्फटिक या कलगटटे की माला से निचे लिखे मंत्र का १०८ बार जाप करे

॥ ॐ क्लीं ऐ श्रीं   ॥

दीपावली  के दिन पीपल के पेड़ के निचे पंचमुखी दीपक जलाये।

 

सिंह  राशि: सिंह राशि के जातक दीपावली  की रात स्फटिक या कलगटटे की माला से निचे लिखे मंत्र का १०८ बार जाप करे

॥ ॐ ह्रीं श्रीं सौ   ॥

और गाय के घी  मुख्य दरवाजे पर जलाये।

कन्या  राशि: कन्या राशि के जातक दीपावली  की रात स्फटिक या कलगटटे की माला से निचे लिखे मंत्र का १०८ बार जाप करे

॥ ॐ श्रीं  ऐ सौ  ॥

लाल कपडे में बांध कर  पैसे रखने की जगह पर  रखे।

तुला  राशि: तुला राशि के जातक दीपावली  की रात स्फटिक या कलगटटे की माला से निचे लिखे मंत्र का १०८ बार जाप करे

॥ ॐ ह्रीं क्लीं  श्रीं  ॥

बड़ के पेड़ के पत्ते पर सिंदूर व् घी से ॐ श्रीं श्रियै नमः और बहते पानी में प्रवाहित कर दे।

वृश्चिक राशि: वृश्चिक राशि के जातक दीपावली  की रात स्फटिक या कलगटटे की माला से निचे लिखे मंत्र का १०८ बार जाप करे

॥ ॐ ऐ  क्लीं  सौ ॥

अपने घर के बगीचे या  कहीं भी जहा जहाँ जगह हो केले का पेड़  लगाये और उसकी देखभाल करे।

धनु  राशि: धनु  राशि के जातक दीपावली  की रात स्फटिक या कलगटटे की माला से निचे लिखे मंत्र का १०८ बार जाप करे

॥ ॐ ह्रीं क्लीं सौ ॥

पान के पत्ते पर रोली से श्रीं लिख कर पूजा स्थान में रखे।

मकर  राशि: मकर राशि के जातक दीपावली  की रात स्फटिक या कलगटटे की माला से निचे लिखे मंत्र का १०८ बार जाप करे

॥ ॐ ऐ क्लीं सौ : ॥

आक की रुई का दीपक घर के ईशान कोण में जलाये।

कुंभ  राशि: कुंभ राशि के जातक दीपावली  की रात स्फटिक या कलगटटे की माला से निचे लिखे मंत्र का १०८ बार जाप करे

॥ ॐ ह्रीं ऐ क्लीं श्रीं: ॥

नारियल के कठोर भाग में घी भर कर लक्ष्मी जी के समक्ष दीपक जलाए।

मीन राशि: मीन राशि के जातक दीपावली  की रात स्फटिक या कलगटटे की माला से निचे लिखे मंत्र का १०८ बार जाप करे

॥ ॐ ह्रीं क्लीं सौ : ॥

दीपवली की रात में कपूर की कालिक से शत्रु का नाम लिखे और पैर से मिटा दे।

 

 

करवा चौथ का त्यौहार है पति पत्नी के बीच प्यार का प्रतीक

कार्तिक माह की कृष्ण चन्द्रोदय व्यापिनी चतुर्थी के दिन किया जाने वाला करकचतुर्थी यानी करवा चौथ का व्रत स्त्रियां अपने अखंड सौभाग्य की कामना और अपने पति की दीर्घायु के लिए रखती हैं।  इस व्रत में शिव-पार्वती, गणेश और चन्द्रमा का पूजन किया जाता है। इस शुभ दिवस पर सुहागन स्त्रियां पति की लंबी आयु की कामना के लिए निर्जला व्रत रखती हैं। पति-पत्नी के सुन्दर से रिश्ते और अटूट बंधन का प्रतीक यह करवा चौथ  पति पत्नी के संबंधों में और भी मिठास लाता है।  वैसे तो यह त्यौहार पुरे भारत में मनाया जाता है। पर खास तोर पर उत्तर-मध्य भारत में इसका खासा रुझान देखने को मिलता हैइस व्रत की खासियत है कि यह केवल शादी-शुदा महिलाएं ही यह व्रत रखती हैं लेकिन आजकल  कई ऐसी महिलाएं भी यह व्रत रखने लगी हैं जिनकी या तो सगाई हो चुकी है या जो किसी से प्रेम करती है।

यह व्रत 12 वर्ष या 16 वर्ष तक लगातार हर वर्ष किया जाता है। १२ -१६ वर्ष के बाद  इस व्रत का उद्यापन किया जाता है।  जो सुहागिन स्त्रियां आजीवन यह व्रत रखना चाहें वे जीवनभर इस व्रत को कर सकती हैं।

करवा चौथ पर श्रृंगार

सुहागिन स्त्रिया करवा चौथ पर रंग-बिरंगे परिधान पहनती हैं, आभूषण और विविध प्रकार के श्रृंगार से खुद को सजाती हैं। हाथो में मेहंदी लगाती है।

करवा चौथ पूजन विधि:

1. इस दिन सुबह जल्दी स्नानादि करने के बाद यह संकल्प बोलकर करवा चौथ व्रत का आरंभ करें।

2. पूरे दिन निर्जल रहते हुए व्रत को संपूर्ण करें।

3. दीवार पर गेरू से फलक बनाकर पिसे चावलों के घोल से करवा बनाये।

4. सूर्य, चंद्रमा, करूआ, कुम्हारी, गौरा, पार्वती आदि देवी-देवताओं को चित्रित करने के साथ पीली मिट्टी की गौरा बनाकर उन्हें एक ओढ़नी उठाकर पट्टे पर गेहूं या चावल बिछाकर बिठा दे।

5. अब यही बैठ कर करावा चौथ के कहानी सुने

6. जब चाँद निकल जाए तब चन्द्र भगवान की पूजा करे तथा उन्हें अर्घ दे।इसके बाद पति के हाथों से ही जल और फल ग्रहण करे।  बाद में करवा चौथ के अवसर पर तैयार विविध व्यंजन खाए।

नोट : साल 2015 में करवा चौथ के दिन पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 05 बजकर 33 मिनट से लेकर 06 बजकर 52 मिनट तक का है। इस वर्ष करवा चौथ के दिन चंद्रोदय रात 08.16 बजे होने की संभावना है।

Shravan Maas and its Importance

Shravan month is very importance month in Hinduism. It’s a one of the importance month of charturmas where people worship of lord Shiva in this month people worship the lord Shiva in different manner to fulfill their desired wishes. Especially the all Monday’s which arises in this month are specially celebrate by the people this Mondays is called “Shravan Somvar”. It falls in the fifth month according to Hindu calendar.

People dedicate this entire month to lord Shiva they avoid the bad thing in this month, do fast, dedicate fruits and donate money in temple of lord Shiva. It’s the believed that who fast on the Mondays of shravan Maas there wish definitely fulfill by lord Shiva. Some people do Strict Fast some do partial fast is this month.

Different type of Pooja done in Shravan Maas:

Pooja for marriage the people who having problem I n marriage they specially do the fast of “Shravan somvar” and by doing this they get marries as soon as possible.

Pooja is to be done for remove hurdles of life.

People do Pooja to get the blessing of lord Shiva. By which their life get smother and easily.

Pooja to get money and become rich is one of the wish of people behind performing the Pooja.

Advantage of fasting

For improving physical and mental health.

For Improving willpower and memory.

Woman’s fast on Monday they definitely get their perfect match partner.

Fasting removes the obstacles of negativity.

Devotes are blessed with spiritual bliss.

Thing to do in Shravan Maas

Wear the rudraksh mala and chant with using of rudraksh mala.

Chant maha mritunjya mantra as possible as you can do.

Offers the bhilpatra, milk, chandan, bhang and itra to lord Shiva.

Offer the panchamrut made of milk, yogurt, butter, honey and jiggery.

Recites the shiv chalisa and aarti.

 

Turmeric: The Magic Herb According To Vedic Astrology

Turmeric finds a respectable place in our room and at our worship places. Astrologically, turmeric is related to Jupiter and it attracts its natural characteristics and yellow color from Jupiter solely.

Its properties as a natural antiseptic and ingredient in food dishes is extremely acknowledge to us. Several of the vital worship rituals and auspicious events like wedding are incomplete while not it. Turmeric is claimed to possess the positive energy of Jupiter. Straightforward accessibility to turmeric makes it easy however a powerful ingredient for playacting remedies. The subsequent are a number of the vital remedies that may be performed exploitation turmeric:

  1. Ligature a chunk of herbaceous plant (Haldi Ganth) on the wrist/neck strengthens the advantageousness of Jupiter.
  2. Those that will not afford to shop for Pukhraj (Yellow Sapphire) as a remedy to afflicted Jupiter can avail the complete edges by exploitation turmeric.
  3. An object of worship will be sublimate by sprinkling water mixed with turmeric.
  4. Carrying turmeric mark (Tika) on forehead improves probabilities of success and overall state of mind.
  5. Marking the boundary wall of the house with an allegory made up of turmeric keeps negative influences treed.
  6. Taking bathtub with water mixed with little amount of turmeric purifies the body in addition as mind.
  7. Giving turmeric mark (Tika) to deities like Ganesh and Hindu deity is taken into account terribly auspicious.
  8. A combination of turmeric and shoe throughout worship is taken into account terribly auspicious for gaining desired results.
  9. Turmeric is taken into account a Satwik product. Its mere existence within the house is terribly auspicious.

Jupiter is that the one among the best beneficent planet in astrology. Any affliction to Jupiter within the birth horoscope will be taken care of by playacting easy remedies exploitation turmeric. It seems as terribly easy item however its results are terribly powerful. The higher than mentioned remedies are a lot of helpful for all those that have debilitated Jupiter, combusted Jupiter, retrograde Jupiter or Jupiter because the owner of first, 4th, 5th, 9th and 10th house. Even folks with inherently sturdy Jupiter will perform these remedies to reinforce the advantageousness of Jupiter in their horoscope.

Activities Performed On Akshaya Tritiya Muhurat

Sesame (Til) wild horse to Ancestors and Deities:

This day is marked with redoubled religious purity in native by 60-70%. On different hand one will expertise 30-40% distress because of departed ancestral souls.

Til wild horse mean providing Sesame and water to deities furthermore on ancestors. Sesame is thought to negate negative energy and could be a image of sattvikta. Water is image of pure religious feeling. Thus, by providing wild horse native surrender before divinity with feeling. Kinsfolk owe debt to ancestors. Thence by providing wild horse to them on at the moment one is repaying the debt to ancestors. As a result the native is blessed in his religious progress and obstacles in numerous spheres of his personal life square measure removed.

Donations for religious Progress:

It is believed that creating offerings on Akshaya Tritiya never wanes; if truth be told, one drives a lot of profit out of it. The donations facilitate in reducing sins of previous births and increase in Virtue. so people ought to provide Satpaatre Daan that’s to form associate providing in such activities that not solely enhance religious progress of native however conjointly aim at protection of the state and Dharma.

By providing Satpaatre Daan, the donor doesn’t acquire advantage, however his destiny (of donation) becomes akarma (karma performed with none doer-ship then not attracting any advantage or demerit) and he gets elevated, spiritually. With religious progress, the seeker, rather than getting to Heaven, goes any within the higher positive religious planes (loka).

Purchasing Gold:

Buying gold could be a well-liked activity of Akshaya Tritiya, legend is, it is that the final image of wealth and prosperity. But, why is simply Metal Gold? Basically Gold has originated from Sanskrit language root “Hri” that means everlasting. It’s called Hiranya in Sanskrit language. Hiranya is deeply connected to Hindu belief system of Hiranyagarbha that’s one born out of gold. Hiranyagarbha popularly refers to crater God Brahma. In line with some legends the creator deposited a seed within the waters of the dark and lifeless cosmos. The stone became a bright golden egg as effulgent because the sun. From this cosmic egg was born Brahma the incarnation of the Creator Himself and universe. Therefore it’s believed that valuables bought on at the moment persevere increasing in life.

The planting of trees:

It is believed that trees planted on this auspicious day blossom with plenteous fruits. Equally Ayurvedic healthful herbs, planted on this auspicious day survive forever and one don’t face any shortage of healthful herbs.

Worshipping Mother Earth:

On at the moment to hunt everlasting blessings immortal Mother Earth (Mrutika Devi) is worshiped. It’s believed that Mother earth blesses the devotees with food grains (Dhaanyalakshmi), wealth (Dhanalakshmi) and Prosperity (Vaibhavlakshmi).

In 5 days of diwali should not work these auspicious tasks

blog-22-10-2014

5 days of diwali festival are ongoing. During these days many measures would performed to please goddess lakshmi but there is need to keep mind on some precautions. In scriptures it is told that we should avoid some tasks during these days. If restricted works are done on diwali then even after so many measures you cannot get grace of lakshmi.

If you want to get wealth and grace of Mahalakshmi then you should avoid these works during Diwali days.

Should not sleep until late morning

Well, every morning should get up early in morning but many people are there who do not get up late in morning. According to scriptures everyone should wake up in Brahma muhurt during days of diwali. People, who sleep till after the sun rise, do not get grace of goddess lakshmi. Specially, in these days try to get up early in morning.

Respect of parents and elders

During diwali days keep mind specially that should not any irreligious act, not even by mistake. Do respect of elders and parents. Who disrespect of his parents, they never get the grace of goddess lakshmi. Do not cheat anyone. Do not speak lie and behave with love with everyone.

Should not sleep in evening

Except the certain situations should not sleep in evening.  Anyone who is ill, aged or any women is pregnant can sleep in evening but a healthy person should not do so. According to scriptures, anyone who sleeps at this time remains poor.

It is also recognize that at night should keep doors of home open thereby goddess lakshmi could enter in our home.

Do not anger

In diwali days should not rage and should loud, it’s too bad. The people who do so never get the grace of goddess lakshmi. At home should maintain ambience of peace, quiet, sacred environment.

Do not fight

During these days keep note on this thing that at home there should not be any type of dispute or conflicts.  all the members of family should live with love and peace.

28 को शनि जयंती पर करे ये उपाय

Shani-Jayanti

हिन्दू ज्योतिष के अनुसार शनि को क्रूर ग्रह माना गया है। ऐसा माना जाता है कि शनि ही इंसान को उसके अच्छे व बुरे कर्मों का फल देता है। इसलिए शनिदेव को न्यायाधीश भी कहा जाता है। अगर आप भी शनि दोष से प्रभावित हैं और उसकी शांति चाहते हैं तो 28 मई, बुधवार को शनि जयंती इसके लिए उपयुक्त अवसर है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जिस किसी की कुंडली में शनि प्रतिकूल स्थान पर होता है उसे जीवन भर दु:ख भोगने पड़ते हैं। साढ़े साती व ढैय्या के रूप में शनि हर व्यक्ति काजीवन कभी न कभी प्रभावित अवश्य करता है। ऐसा नहीं है कि शनि सिर्फ अशुभ फल ही प्रदान करता है, जिस पर भी शनिदेव की कृपा हो जाए उसे जीवन भर कभी कोई परेशानी नहीं होती। अगर आप भी शनिदेव को प्रसन्न करना चाहते हैं तो कुछ विशेष पूजन, तंत्र-मंत्र-यंत्र व टोने-टोटके से यह संभव है। कुछ उपाय इस प्रकार है-

1- धर्म शास्त्रों में शनि देव के अनेक नाम बताए गए हैं। अगर शनि जयंती के दिन इन नामों से शनि देव का पूजन किया जाए तो शनिदेव अपने भक्त की हर परेशानी दूर कर देते हैं। ये प्रमुख 10 नाम इस प्रकार हैं-

कोणस्थ पिंगलो बभ्रु: कृष्णो रौद्रोन्तको यम:।
सौरि: शनैश्चरो मंद: पिप्पलादेन संस्तुत:।।

अर्थात: 1- कोणस्थ, 2- पिंगल, 3- बभ्रु, 4- कृष्ण, 5- रौद्रान्तक, 6- यम, 7, सौरि, 8- शनैश्चर, 9- मंद व 10- पिप्पलाद। इन दस नामों से शनिदेव का स्मरण करने से सभी शनि दोष दूर हो जाते हैं।

2- कांसे की कटोरी में तेल भरकर उसमें अपनी परछाई देखकर दान करें।

3- सरसों के तेल में लोहे की कील डालकर दान करें और पीपल की जड़ में तेल चढ़ाएं।

4- शनि जयंती के दिन सूर्यास्त के समय जो भोजन बने उसे पत्तल में लेकर उस पर काले तिल डालकर पीपल की पूजा करें तथा नैवेद्य लगाएं और यह भोजन काली गाय या काले कुत्ते को खिलाएं।

5- तेल का पराठा बनाकर उस पर कोई मीठा पदार्थ रखकर गाय के बछड़े को खिलाएं।

6- अभिमंत्रित शनि मुद्रिका (काले घोड़े की नाल की अंगुठी) मध्यमा अंगुली में धारण करें।

7- शनि की शांति के लिए नीलम रत्न युक्त शनि यंत्र गले में धारण करें।

8- लाल चंदन की माला को अभिमंत्रित कर शनिवार या शनि जयंती के दिन पहनने से शनि के अशुभ प्रभाव कम हो जाते हैं।

9- शमी वृक्ष की जड़ को विधि-विधान पूर्वक घर लेकर आएं। शनिवार के दिन श्रवण नक्षत्र में या शनि जयंती के दिन किसी योग्य विद्वान से अभिमंत्रित करवा कर काले धागे में बांधकर गले या बाजू में धारण करें। शनिदेव प्रसन्न होंगे तथा शनि के कारण जितनी भी समस्याएं हैं, उनका निदान होगा।

१०- काले धागे में बिच्छू घास की जड़ को अभिमंत्रित करवा कर शनिवार के दिन श्रवण नक्षत्र में या शनि जयंती के शुभ मुहूर्त में धारण करने से भी शनि संबंधी सभी कार्यों में सफलता मिलती है।