logo
India Free Classifieds

19जनवरी से शनि-राहू का खड़ाष्टक योग

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ऊर्जा, न्याय और भाग्योन्नति का कारक माने जाने वाला शनिग्रह 15 दिसंबर से 33 दिन तक अस्त रहने के बाद शनिवार को 19 जनवरी को सुबह 8.28 पर उदय होने जा रहा है. मालूम हो उदय व अस्त होना सभी ग्रहों की एक सामान्य प्रक्रिया है जो हम सभी प्रतिदिन सुबह – शाम सूर्य के उदय व अस्त (सूर्योदय व सूर्यास्त) से समझ सकते हैं.
 
अस्त ग्रह धरती या हमारे जीवन पर कोई प्रभाव नहीं डालते। अगर कभी डालते भी हैं तो लगभग नगण्य या परोक्ष रूप में, वह भी बदले हुए स्वरूप में. जैसा रात के समय सूर्य की किरणें चंद्रमा के माध्यम से शीतल होकर हम तक आती हैं.
 
सभी ग्रहों का सभी राशियों पर हमेशा अलग अलग प्रभाव पड़ता है. शनिग्रह या शनिदेव के उदय होने का भी अलग-अलग राशियों पर अलग-अलग प्रभाव पड़ेगा.
 
करीब एक साल तक शनि का विशेष प्रभाव जनमानस को नजर आएगा। ज्योतिषियों के अनुसार उदय काल से ही शनि-राहू का खड़ाष्टक योग बन रहा है, इसलिए 19 फरवरी तक अफसरों के विभागीय परिवर्तन व स्थानांतरण बड़ी संख्या में होंगे.
 
19 जनवरी को सुबह 8.28 बजे उदय होने के बाद साल के अंत तक शनिदेव दिव्य अवस्था में रहेंगे अर्थात तकरीबन एक साल शनि का प्रभाव दृष्टि गोचर होगा. इस बीच साल 2019 के मध्य में
शनि की वक्रीय तथा मार्गीय दृष्टि का विशेष प्रभाव भी नजर आएगा.
 
वर्तमान में शनि धनु राशि में गोचरस्थ हैं तथा 30 अप्रैल तक मार्गीय रहेंगे, उसके बाद वक्रीय होंगे। शनि के मार्गीय अवस्था में चार माह संविधान संशोधन के लिए आश्चर्यजनक खबर देने वाले हो सकते हैं.
 
प्रयागराज यूपी के ज्योतिर्विद पंडित माणिकान्त पाण्डेय जी के अनुसार शनि का उदय पूर्व दिशा में हो रहा है जो व्यापारिक वर्ग के लिए फायदेमंद होगा. बाजार में तेजी आएगी. साथ ही इसका असर भी अलग-अलग राशि के जातकों (व्यक्तियों) पर अलग-अलग पड़ेगा.
 
अधिकांश राशियों के लिए यह उदय लाभप्रद है जबकि कुछ को सावधानी भी बरतनी पड़ेगी. सड़क योजना का विस्तार होगा. परिवहन की सुविधा बढ़ेगी. निगम के कार्यों में तेजी आएगी. नए कारखानों की स्थापना होगी. रोजगार के अवसर बढ़ेंगे. परिश्रम की अनुकूलता से जरूरतमंदों के चेहरे पर मुस्कान आएगी. राजनीतिक उठापटक देखने को मिलेगी. नए चेहरों को अवसर मिलने के योग हैं.
 
आपकी राशि पर करेंगे ऐसा असर:-
 
-मेष-कार्य की गति बढ़ेगी, लाभ होगा.
 
-वृषभ-भाग्योन्नति होगी, पैतृक संपत्ति का लाभ मिलेगा.
 
-मिथुन-आर्थिक योग उत्तम रहेंगे, परिवर्तन से प्रसन्नता, कोर्ट – कचहरी के मामलों में विजय.
 
-कर्क-सामंजस्य बनाने में परेशानी आएगी, प्रेम से बात रखें.
 
-सिंह-मित्रों का सहयोग मिलेगा, निवेश कर सकते हैं.
 
-कन्या-राजनैतिक लाभ के योग, पद वृद्धि होगी.
 
-तुला-धन प्राप्ति होगी, रुका कार्य गति पकड़ेगा, शत्रु परास्त होंगे.
 
-वृश्चिक-बड़ी समस्या के समाधान में परेशानी, रिश्ते बिगड़ने की शंका, शत्रुओं से सावधान रहना होगा.
 
-धनु-उत्तम स्वास्थ्य रहेगा, भाग्य का साथ धर्म में वृद्धि कराएगा.
 
-मकर-निवेश की योजना दीर्घकालिक लाभ देगी.
 
-कुंभ-परिजनों के सहयोग से कार्य बनेंगे, लाभ होगा और
 
-मीन-पदोन्नति तथा इच्छित स्थान की प्राप्ति होगी.

More एक नज़र

ज्योतिष ज्ञान

img

पुत्र प्राप्ति यन्त्र

रविवार के दिन सर्पाक्षी के पत्तो से युक्त डाली लाकर एक...

Click here
img

कुन्डली रहस्य

पंचम भाव में शनि मंगल लग्नेष के साथ हो तो...

Click here
img

संतान का लिंग बताता है चीनी कैलेंडर

मनचाही संतान प्रापित के लिए सवरोदय विज्ञान का...

Click here
img

रत्नों की जांच कैसे हो

कभी भी ज्योतिष की सलाह के बिना रत्न धारण नहीं...

Click here
img

रूद्राक्ष के प्रयोग

यदि मन्त्र षकित (विधान) के साथ धारण किया...

Click here
img

ग्रह दान वस्तु चक्रम

टीका-साधु, ब्रáणों और भूखों को भोजन कराने...

Click here
img

मंगली दोश के उपाय

जातक के लग्न में अषुभ मंगल होने से मंगली दोश बनता हो तो जातक को...

Click here

Can ask any question