logo
India Free Classifieds

बृहस्पति अस्त, जानें कौन सी राशि रहेगी मस्त और कौन पड़ेगी पस्त

 
   
14नवंबर सन 2018 को देवताओं के गुरु और मार्गदर्शक एवं अंगिरस ऋषि के पौत्र बृहस्पति अस्त होंगे। जब बृहस्पति अस्त होते हैं तो कहते हैं कि मति पर पत्थर पड़ जाते हैं जो स्वयं कभी बृहस्पति देव की बुद्धि पर भी पड़ गए थे। और उन्होंने अपनी पत्नी जुहु का परित्याग किया और जब वो अपने अस्त होने से बाहर आये तो फिर अग्नि के समक्ष उन्हें पुन: स्वीकारा। पुष्य नक्षत्र बृहस्पति के लिए अत्यंत शुभ माना जाता है। लेकिन बृहस्पति एक बार उसको छोड़ते हैं तो पुन: उस नक्षत्र पर पहुँचने में उन्हें एक वर्ष का समय लगता है। बुद्धि के अस्त होते ही व्यक्ति नाना प्रकार के व्यसन, झूठ और फरेब जो बुद्धिमता से परे होते हैं उसमें लिप्त हो सकता है। और यदि वह व्यक्ति लिप्त हुआ तो उससे उभरने में काफी समय जा सकता है हमे राशिवार यह समझना चाहिए कौन - कौन सी चीज़ हमारे लिए सर्वाधिक परेशान करने वाली है ताकि जब गुरु अस्त रहे तो हम इन परेशानियों से बचे रहें।
*मेष राशि - जब तक गुरु अस्त हैं तब तक मेष राशि के जातक उदंडता , क्रोध एवं स्त्री व पुत्र से प्राप्त होने वाले दुःख से सतर्क रहें।मेष राशि के जातकों को इस समय अपने शत्रुओं से सावधान रहने की आवश्यकता है।
 
*वृषभ राशि - जब तक गुरु अस्त हैं तब तक वृषभ राशि के जातक संतान की ओर से सचेत रहें। यह जातक फिजूल खर्ची से बचें। शत्रुओं से सावधान रहें।
 
*मिथुन राशि - गुरु के अस्त होने पर के जातकों को वाणी पर संयम बरतने की आवश्यकता है। व्यापार से हानि की सम्भावना है।
 
*कर्क राशि - जब तक गुरु अस्त हैं तब तक कर्क राशि के जातक पुत्र और स्त्री की ओर से सावधान रहें। वाणी पर नियंत्रण रखें।
 
*सिंह राशि - देवताओं के गुरु के अस्त होने पर सिंह राशि के लिए जातक अपने शत्रुओं से सतर्क रहें। संतान आदि को कष्ट हो सकता है। धन का संग्रह करें।
 
*कन्या राशि - जब तक गुरु अस्त हैं तब तक कन्या राशि के जातकों के लिए मित्रों की ओर से सतर्क रहने की आवश्यकता है। गरीबों की सहायता करें।
 
*तुला राशि - बृहस्पति के अस्त काल के दौरान तुला राशि के जातक धार्मिक अनुष्ठान करें साहसी बनें एवं बड़ों का आदर करें।
 
*वृश्चिक राशि - देवताओं के मार्गदर्शक और बुद्धि के प्रदाता बृहस्पति के अस्त होने पर जातक झूठ बोलने से बचें। संतान आदि को चोट लग सकती है।
 
*धनु राशि - बृहस्पति के अस्त होने पर धनु राशि के जातक कोई भी निर्णय सोच - समझ कर लें एवं इनके अस्त काल के दौरान कोई वाहन आदि न खरीदें।
 
*मकर राशि- गुरु के अस्त काल के दौरान मकर राशि के जातकों के लिए चहुँ ओर से दुःख घेर सकता है। यह जातक ऐसे किसी भी कार्य में मन न लगाएं जो प्राप्त न होने की सम्भावना हो।
 
*कुम्भ राशि - बृहस्पति के अस्त होने पर कुम्भ राशि के जातकों को दांतो से सम्बंधित कोई परेशानी हो सकती है। जीवनसाथी की ओर से कष्ट मिल सकता है।
 
*मीन राशि -देवताओं के गुरु के अस्त होने पर मीन राशि के जातक गरीबों की सहायता करें।
astroyatra.com
 

More एक नज़र

ज्योतिष ज्ञान

img

पुत्र प्राप्ति यन्त्र

रविवार के दिन सर्पाक्षी के पत्तो से युक्त डाली लाकर एक...

Click here
img

कुन्डली रहस्य

पंचम भाव में शनि मंगल लग्नेष के साथ हो तो...

Click here
img

संतान का लिंग बताता है चीनी कैलेंडर

मनचाही संतान प्रापित के लिए सवरोदय विज्ञान का...

Click here
img

रत्नों की जांच कैसे हो

कभी भी ज्योतिष की सलाह के बिना रत्न धारण नहीं...

Click here
img

रूद्राक्ष के प्रयोग

यदि मन्त्र षकित (विधान) के साथ धारण किया...

Click here
img

ग्रह दान वस्तु चक्रम

टीका-साधु, ब्रáणों और भूखों को भोजन कराने...

Click here
img

मंगली दोश के उपाय

जातक के लग्न में अषुभ मंगल होने से मंगली दोश बनता हो तो जातक को...

Click here

Can ask any question