logo
India Free Classifieds

ज्योतिष क्या है

ज्योतिष सिर्फ और सिर्फ एक विज्ञान है जिससे ग्रहों की ऊर्जा का आपके शरीर मन और आत्मा पर प्रभाव को देखा जाता है 
 
ज्योतिष को समझने के लिए पहले हमें ग्रहों को समझना होता है 
 
ग्रहों में सबसे पहले इनकी गति को पकड़ना होता है 
 
ग्रह तो घूम रहे है और यह घूमते रहते है इसलिए सबसे जरूरी यही होता है कि ग्रहों की गति को समझा जाए
 
उसके बाद इनकी चाल होती है कितनी रफ्तार है ग्रहों में इनकी स्पीड का आकलन करना जरूरी होती है 
 
जब ग्रह में गति होगी तभी तो वो कुछ काम कर पाएगा 
 
जब भी ग्रह मार्गी से वक्री होता है या वक्री से मार्गी वो कुछ पल के लिए रुक जाता है ना वो आगे की तरफ चलता है न पीछे की तरफ उस वक़्त ग्रह की कोई गति नही होती 
 
यह ऐसे ही है जैसे आप आगे चल रहे है जब आप पीछे की तरफ मुड़ते है तो एक पल के लिए रुक जाते है 
 
ऐसे में किसी का जन्म हो और ग्रह में गति न हो वो ग्रह अपना फल नही दे पाता है 
 
मित्रो आप ज्योतिष को एक विज्ञान समझो इनके बारे में पडो पहले सूर्य चंद्रमा बाकी ग्रहों की क्या भूमिका है 
 
यह कैसे अस्त होते है इनकी गति इनकी डिग्री क्या होती है 
 
यह सिर्फ और सिर्फ एक विज्ञान है और ग्रहों के प्रभाव से आज तक कोई नही बचा है 
 
कोई तो बात है इन ग्रहों के ईश्वर ने इनको बनाया और इनका प्रभाव समस्त चीज़ों का डाला 
 
पर आप ज्योतिष को जब भी पडो और समझो इसको एक विज्ञान के रूप में लो 
 
किसी अन्धविश्वास से मत जोड़ो इसको 
 
जब आप अंधविश्वास में जाओगे तो फिर भटक जाओगे फिर कुछ नही मिलना 
 
होना तो वही है जो किस्मत में लिखा है कोई नही बदल सकता 
 
पर घटना कब कैसे और क्या घट सकती है ज्योतिष से इनके बारे में जाना जा सकता है 
 
और खास तौर पर हमको सही और गलत में फर्क पता चलने के लिए ज्योतिष बहुत सहायक होता है।
 
इसको एक विज्ञान समझो 
 
कही उल्टे सीधे चक्कर में पड़ जाय बहुत लोग ज्योतिष के नाम पर गलत तरीके से भटका देते है।
 
अपने दिमाग और संयम से चले।

ज्योतिष ज्ञान

img

पुत्र प्राप्ति यन्त्र

रविवार के दिन सर्पाक्षी के पत्तो से युक्त डाली लाकर एक...

Click here
img

कुन्डली रहस्य

पंचम भाव में शनि मंगल लग्नेष के साथ हो तो...

Click here
img

संतान का लिंग बताता है चीनी कैलेंडर

मनचाही संतान प्रापित के लिए सवरोदय विज्ञान का...

Click here
img

रत्नों की जांच कैसे हो

कभी भी ज्योतिष की सलाह के बिना रत्न धारण नहीं...

Click here
img

रूद्राक्ष के प्रयोग

यदि मन्त्र षकित (विधान) के साथ धारण किया...

Click here
img

ग्रह दान वस्तु चक्रम

टीका-साधु, ब्रáणों और भूखों को भोजन कराने...

Click here
img

मंगली दोश के उपाय

जातक के लग्न में अषुभ मंगल होने से मंगली दोश बनता हो तो जातक को...

Click here

Can ask any question