logo
India Free Classifieds

व्यापार को सफल बनाने हेतु वास्तु के १२ सूत्र

०१.. व्यापारिक संस्थान के मालिक को दक्षिण पश्चिम या नेत्र्ते में इस प्रकार बैठना चाहिए कि उसका मुह सदेव

उतर कि और हो दुकान व् शो रूम में बिक्री का सामान हमेशा दक्षिण पश्चिम और वायव्ये में रखना चाहिए बिक्री

काउंटर पर खड़े सेल्समेन का मुह पूर्व या उतर कि और होना चाहिए 

 
२। . केस काउंटर ,मालिक या मैनेजर के स्थान के ऊपर कोई बीम नहीं होना चाहिए 
 
०३। . दुकान / शो रूम में भारी वस्तुए या कम उपयोग कि वस्तुए नेत्र्ते कोण में रखे 
 
०४..   जो माल काफी दिनों से नहीं बिक रहा हो उसे वायव्ये कोण में रख देना चाहिए माल शीघ्र ही
 
बिक जायेगा मुख्य कार्यालय का प्रवेश द्वार उतर या पूर्व कि और होना चाहिए ,सभी केबिन के
 
द्वार अंदर कि और खुलना चाहिए ,कार्यालय में कैंटीन आग्नेय कोण में होनी चाहिए ,कार्यालय
 
में खजांची लेखा विभाग ,कंप्यूटर ऑपरेटेर उतर दिशा में बैठना चाहिए 
 
०५। . स्वागत कक्ष प्रवेश द्वार के पास होना चाहिए / स्वागत करता का मुह पूर्व या उतर कि और
 
होना चाहिए। स्वागत कक्ष में उतर पूर्व या ईशान कोण में सजावटी फूल गमले / पौधे लगाये जा
 
सकते है। 
 
 
०६. स्विमिंग पुल उतर या पूर्व दिशा में बनाना चाहिए। सीढियो कि संख्या विषम होनी चाहिए।
 
सार्वजनिक सुविधएं भवन के  नेत्र्ते कोण या पश्चिम  में होनी चाहिए 
 
 
०७। रेस्टोरेंट में रसोई आग्नेय कोण में तथा वितरण काउंटर  वायव्ये कोण बनाना चाहिए 
 
०८।  अस्प्ताल व् नर्सिंग होम में दक्षिण द्वार नहीं बनाना चाहिए। अस्पताल का आपातकाल
 
वार्ड वायव्ये कोण के समीप उतर में बनाना चाहिए , अस्पताल में गहन चिकित्सा कक्ष [i.c.u ]
 
 वायव्ये कोण में बनाना चाहिए प्रसूति वार्ड ईशान व् पूर्व में बनाना चाहिए 
 
०९। अस्पताल में शल्य चिकित्सा विभाग पश्चिम में बनाना चाहिए।   नेत्र्ते कोण में कोई वार्ड
 
नहीं बनाना चाहिए। रोगियो का कमरा दक्षिण में नहीं बनाना चाहिए। तथा उनका सर उतर में
 
नहीं होना चाहिए मुर्दा घर या पोस्ट मार्टम का कमरा दक्षिक में बनाना चाहिए। लिफ्ट उतर या
 
पूर्व  में बनानी चाहिए। 
 
१०। सिनेमा हॉल में पर्दा  वायव्ये उतर दिशा में होना चाहिए क्लब में आउटडोर स्टेडियम पूर्व
 
उतर या पश्चिम में बनाना चाहिए। क्लब में मदिरालय पश्चिम में नहीं बनाना चाहिए। योग
 
अभ्यास व् ध्यान का कमरा ईशान व् पूर्व में होना चाहिए 
 
११। स्कूल में अध्यन के कमरे पूर्व उतर या पश्चिम में बनाने चाहिए। पड़ते समय विध्यार्थियो
 
का मुह उतर या पूर्व कि तरफ होना चाहिए। स्टाफ रूम  वायव्ये कोण या उसके आस पास होना
 
चाहिए 
 
१२। दुकान में तराजू पश्चिम दक्षिण या  वायव्ये में होना चाहिए बर्फ खाने में बर्फ का संग्रह
 
 वायव्ये में होना चाहिए /ज्योतिष कार्यालय में पुस्तके हमेशा दाई हाथ कि  और  रखनी चाहिए।
 
केमिस्ट कि दुकान पर कोई भी दवाई  नेत्र्ते कोण में नहीं रखनी चाहिए। पिने का पानी ईशान
 
कोण में रखना चाहिए। 

More Vastu

ज्योतिष ज्ञान

img

पुत्र प्राप्ति यन्त्र

रविवार के दिन सर्पाक्षी के पत्तो से युक्त डाली लाकर एक...

Click here
img

कुन्डली रहस्य

पंचम भाव में शनि मंगल लग्नेष के साथ हो तो...

Click here
img

संतान का लिंग बताता है चीनी कैलेंडर

मनचाही संतान प्रापित के लिए सवरोदय विज्ञान का...

Click here
img

रत्नों की जांच कैसे हो

कभी भी ज्योतिष की सलाह के बिना रत्न धारण नहीं...

Click here
img

रूद्राक्ष के प्रयोग

यदि मन्त्र षकित (विधान) के साथ धारण किया...

Click here
img

ग्रह दान वस्तु चक्रम

टीका-साधु, ब्रáणों और भूखों को भोजन कराने...

Click here
img

मंगली दोश के उपाय

जातक के लग्न में अषुभ मंगल होने से मंगली दोश बनता हो तो जातक को...

Click here

Can ask any question