logo
India Free Classifieds
Consult Your Problem Helpline No.
8739999912, 9950227806


सूर्य का कन्या राशि में गोचर

वैदिक ज्योतिष में सूर्य को नव ग्रहों के राजा की उपाधि दी गई है। वेदों में सूर्य को जगत की आत्मा कहा गया है अत: सूर्य के बिना जीवन संभव नहीं है। ज्योतिष शास्त्र में सूर्य को आत्मा और पिता का कारक माना गया है इसलिए कुंडली में सूर्य को पूर्वजों का प्रतिनिधि कहा जाता है। सूर्य प्रधान जातक सरकारी और अन्य सेवाओं में बड़े पदों पर आसीन रहते हैं।

सूर्य ग्रह 17 सितंबर 2017 (रविवार) को रात्रि 12:55 बजे कन्या राशि में गोचर करेगा। सूर्य इस राशि में 17 अक्टूबर 2017 (मंगलवार) को दोपहर 12:50 बजे तक स्थित रहेगा। निश्चित ही सूर्य के इस गोचर का प्रभाव आपके जीवन पर पड़ेगा। उन तमाम प्रभावों का उल्लेख नीचे आपकी राशि के अनुसार दिया जा रहा है साथ ही शुभ और उत्तम फल की प्राप्ति के लिए प्रभावी उपाय बताए गए हैं।



 यह राशिफल आपकी चंद्र राशि पर आधारित है



*मेष*

*सूर्य आपकी राशि से षष्ठम भाव* में गोचर करेगा। सूर्य की यह स्थिति आपके लिए सकारात्मक रहेगी। इस दौरान आपको अच्छे परिणाम मिलेंगे। वहीं आपके साहस और बल के कारण शत्रु भयभीत महसूस करेंगे। प्रतियोगी परीक्षाओं में अच्छी तैयारी के कारण आप सफल रहेंगे। कार्य क्षेत्र में आप अच्छा प्रदर्शन करेंगे और सीनियर्स भी आपके काम से ख़ुश रहेंगे। गोचर के दौरान आपको स्वास्थ्य लाभ मिलेगा। सरकार की किसी योजना से आप लाभान्वित हो सकते हैं। निजी जीवन में भी ख़ुशियाँ बनी रहेंगी।



*वृषभ*

*सूर्य आपकी राशि से पंचम भाव* में गोचर करेगा। इस दौरान आप असमंजस की स्थिति में रह सकते हैं और बड़े निर्णय लेने में आपको परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। कार्य क्षेत्र में सीनियर्स के साथ आपके रिश्ते बिगड़ सकते हैं, कोशिश करें कि सीनियर्स के साथ आपके रिश्ते मधुर रहें। समाज में भी कुछ लोगों से आपका विवाद संभव है। बच्चों की सेहत का पूरा ध्यान रखें। जीवनसाथी को गोचर के अनुकूल परिणाम प्राप्त हो सकते हैं। करियर में उन्हें ज़बरदस्त सफलता मिलने के योग हैं। यात्राओं का परिणाम आपके लिए प्रतिकूल रहेगा। वैसे कुल मिलाकर गोचर आपके लिए अच्छा है।



*मिथुन*

*सूर्य आपकी राशि से चतुर्थ भाव* में गोचर करेगा। इस दौरान आपको मानसिक तनाव तथा स्वास्थ्य में कमज़ोरी रह सकती है। मानसिक तनाव को दूर करने के लिए मनोरंजन का सहारा लिया जा सकता है। माता जी के स्वास्थ्य में भी कमी देखी जा सकती है इसलिए उनकी सेहत की देखभाल ज़रुरी है। घर में परिजनों के साथ किसी बात को लेकर आपका मनमुटाव हो सकता है इसलिए ऐसे मुद्दों पर ज़्यादा ध्यान न दें जिससे घर की शांति भंग हो। यदि ज़्यादा ज़रुरी न हो तो यात्रा को टाला जा सकता है। वहीं वैवाहिक जीवन में भी चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। जीवनसाथी को कार्य क्षेत्र में गोचर का लाभ मिलेगा।



*कर्क*

*सूर्य आपकी राशि से तृतीय भाव* में गोचर करेगा। इस दौरान स्वास्थ्य की दृष्टि से गोचर आपको सकारात्मक परिणाम देने वाला है। भौतिक सुख सुविधाओं का आप आनंद लेंगे। अपने लक्ष्य के प्रति आपकी इच्छा शक्ति में वृद्धि होगी। कार्यक्षेत्र में आप सराहनीय कार्य करेंगे जिससे सीनियर्स भी आपके काम से ख़ुश रहेंगे। उच्च अधिकारियों से आपके रिश्ते बनेंगे। समाज में भी प्रतिष्ठित लोगों के साथ आपका उठना-बैठना होगा। छोटी दूरी की यात्राएं आपके लिए लाभकारी साबित हो सकती हैं। इसके अलावा दोस्तों और भाई-बहनों की मदद से आपको आर्थिक लाभ मिल सकता है। विरोधियों पर आपका भय बना रहेगा। समाज में भी आपका मान-सम्मान बढ़ेगा। कार्यक्षेत्र में आपकी पदोन्नति की प्रबल संभावना है। लोगों के प्रति आपका व्यवहार मधुर और सौम्य रहेगा।



*सिंह*

*सूर्य आपकी राशि से द्वितीय भाव* में गोचर करेगा। इस दौरान आपको थोड़ा संभलकर चलना होगा। कठोर शब्द बोलकर किसी की भावना को आहत न करें, बल्कि सभी से प्रेम से बातचीत करें। गोचर की अवधि में आपको शारीरिक और मानसिक दोनों प्रकार की चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। बुखार, सिरदर्द और आँखों में संक्रमण जैसी समस्या से गुज़रना पड़ सकता है। परिवार में किसी बात को लेकर झगड़ा भी हो सकता है। घर में परिजनों के बीच सामंजस्य बिठाने का प्रयास करें। गोचर के दौरान जीवनसाथी का स्वास्थ्य कुछ कमज़ोर रह सकता है अतः उनकी सेहत का ख़्याल रखें। धन के लेन-देन में सावधानी बरतें। दोस्तों और रिश्तेदारों से किसी बात पर आपका मनमुटाव हो सकता है, हालाँकि ऐसे मामलों को ज़्यादा तूल न दें। निजी जीवन से जुड़ी समस्याएँ आपके लिए मानसिक तनाव का कारण बन सकती हैं। तनाव से बचने के लिए मनोरंजन का सहारा लिया जा सकता है।



*कन्या*

*सूर्य आपकी राशि में गोचर करेगा और यह आपके प्रथम भाव* में स्थित होगा। इस दौरान धन के लेन-देन में सावधानी बरतें और ऐसा कोई काम न करें जिससे समाज में आपकी मानहानि होती हो। गोचर की अवधि में बुखार, सिरदर्द, अपच और आँख में किसी प्रकार का संक्रमण आदि हो सकता है इसलिए अपनी सेहत का ख़्याल रखें। काम के वक़्त आपको आलस आ सकता है और इसी वजह से आपके काम लंबित रह सकते हैं। वहीं काम के चलते आपको घर से दूर जाना पड़ सकता है। तनाव और अहंकार आपके जीवन को प्रभावित कर सकते हैं इसलिए हमेशा इनसे बचें। विदेशr संबंधों से आपको लाभ प्राप्त हो सकता है।



*तुला*

*सूर्य आपकी राशि से द्वादश भाव* में गोचर करेगा। इस दौरान आप विदेश यात्रा पर जा सकते हैं। काम के चलते घर से दूर भी रहना पड़ सकता है। आप किसी हिल स्टेशन पर जाने की योजना बना सकते हैं। इस बीच अपनी सेहत का भी पूरा ध्यान रखें। गोचर की अवधि में आपका ख़र्चा थोड़ा बढ़ सकता है। अनुचित कार्यों को न करें वरना आपकी मानहानि संभव है। अपने विरोधियों से भी सावधान रहें। दोस्तों से किसी बात को लेकर मनमुटाव हो सकता है परंतु आप बात को ज़्यादा न बढ़ाएँ।



*वृश्चिक*

*सूर्य आपकी राशि से एकादश भाव* में संचरण करेगा। सूर्य की यह स्थिति आपके लिए सकारात्मक रहेगी। विभिन्न स्रोतों से आपको लाभ मिलने के योग हैं। इस दौरान आपकी आय में वृद्धि होने की संभावना है और शत्रुओं पर आप विजय प्राप्त करेंगे। दान-धर्म के कार्यों में आपकी रुचि बढ़ेगी। कार्यक्षेत्र में वरिष्ठ कर्मियों का सहयोग और उनका मार्गदर्शन आपको प्राप्त होगा। इसके अलावा सूर्य के इस गोचर के दौरान कोई बड़ी उपलब्धि हासिल हो सकती है। पिता के आशीर्वाद और उनकी प्रेरणा से आप जीवन की राह पर आगे बढ़ेंगे।



*धनु*

*सूर्य आपकी राशि से दशम भाव* में स्थित होगा। इस दौरान कार्य क्षेत्र में आपको सकारात्मक परिणाम देखने को मिल सकते हैं। जैसे- नौकरी में आपकी पदोन्नति और आय में वृद्धि हो सकती है। सरकार की ओर से भी लाभ मिलने के शुभ संकेत हैं। आर्थिक और स्वास्थ्य की दृष्टि से गोचर आपके लिए शुभ होने के संकेत दे रहा है। समाज में प्रभावी व्यक्तियों से आपके संबंध बनेंगे और समय आने पर उनके द्वारा आपको लाभ मिल सकता है। अपने कार्य में आपको सफलता मिलेगी। वहीं सोसायटी में आपका मान-सम्मान भी बढ़ेगा।



*मकर*

*सूर्य आपकी राशि से नवम भाव* में गोचर करेगा। इस अवधि में आपको उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ सकता है। अनैतिक और ग़ैरक़ानूनी कामों से दूर रहें वरना समाज में आपका मान-सम्मान गिर सकता है। पैसों की लेन-देन में सावधानी बरतें, वरना आपको धन की हानि हो सकती है। पिताजी के साथ किसी बात को लेकर मनमुटाव हो सकता है। आपकी सेहत कुछ कमज़ोर रह सकती है इसलिए अपनी सेहत पर पूरी तरह से ध्यान दें और मानसिक तनाव को अपने ऊपर हावी न होने दें। किसी मुद्दे पर वरिष्ठ जनों से वैचारिक मतभेद होने की संभावना है। कार्य क्षेत्र में सफलता पाने के लिए आपको संघर्ष करना पड़ सकता है।



*कुंभ*

*सूर्य आपकी राशि से अष्टम भाव* में गोचर करेगा। इस दौरान किसी कारण आपको विवाद का सामना करना पड़ सकता है इसलिए ऐसा कोई भी काम न करें जिससे विवाद की स्थिति पैदा हो। आपके पिछले कर्मों का फल आपको इस गोचर के दौरान मिलने वाला है। शत्रुओं से आपका सामना हो सकता है। यदि बल और बुद्धि दोनों से दुश्मन का सामना करते हैं तो आपको सफलता मिलने की संभावना है। अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें, अन्यथा किसी रोग का सामना करना पड़ सकता है। ग़ैरक़ानूनी काम से दूर रहें। इस अवधि में जीवनसाथी को स्वास्थ्य संबंधी परेशानी से गुज़रना पड़ सकता है। अप्रत्याशित ख़र्चे भी आपके लिए समस्या का कारण बन सकता है इसलिए धन का ख़र्च सोच समझकर करें और बचत पर ज़्यादा ध्यान दें।



*मीन*

*सूर्य आपकी राशि से सप्तम भाव* में जाएगा। इस दौरान जीवनसाथी से मतभेद होने के संकेत हैं। अहंकार आपके वैवाहिक रिश्ते में खटास पैदा कर सकता है, इसलिए इसका त्याग करें। इसके अलावा गोचर के दौरान जीवनसाथी और बच्चों की सेहत कुछ कमज़ोर रह सकती है अतः उनकी सेहत पर भी ध्यान दें। व्यापार के लिए परिस्थितियाँ आपके लिए अनुकूल नहीं है। बिज़नेस पार्टनर के साथ किसी तरह का विवाद हो सकता है। यदि आप नौकरी कर रहे हैं तो आपको कोई शुभ समाचार प्राप्त हो सकता है। यात्रा के दौरान आपको अधिक सावधान रहने की आवश्यकता है। अपच, पेटदर्द, सिरदर्द एवं मानसिक तनाव जैसी समस्याएँ आपको घेर सकती हैं, लिहाज़ा पहले से सेहत को लेकर सतर्क रहें।

ज्योतिष ज्ञान

img

पुत्र प्राप्ति यन्त्र

रविवार के दिन सर्पाक्षी के पत्तो से युक्त डाली लाकर एक...

Click here
img

कुन्डली रहस्य

पंचम भाव में शनि मंगल लग्नेष के साथ हो तो...

Click here
img

संतान का लिंग बताता है चीनी कैलेंडर

मनचाही संतान प्रापित के लिए सवरोदय विज्ञान का...

Click here
img

रत्नों की जांच कैसे हो

कभी भी ज्योतिष की सलाह के बिना रत्न धारण नहीं...

Click here
img

रूद्राक्ष के प्रयोग

यदि मन्त्र षकित (विधान) के साथ धारण किया...

Click here
img

ग्रह दान वस्तु चक्रम

टीका-साधु, ब्रáणों और भूखों को भोजन कराने...

Click here
img

मंगली दोश के उपाय

जातक के लग्न में अषुभ मंगल होने से मंगली दोश बनता हो तो जातक को...

Click here
consult

You will get Call back in next 5 minutes...

Name:

*

 

Email Id:

*

 

Contact no.:

*

 

Message:

 

 

Can ask any question