logo
India Free Classifieds

आनेवाला है शुभ समय

ज्योतिष मतलब ज्योति का शास्त्र।नंगी आँखों से तो कुछ दूर तक देख सकते है लेकिन यदि जीवन मॆ स्थितियां ऐसी आ पड़े की आगे क्या होगा ये समझ न आये ऐसी स्थिति मॆ ज्योतिष ही एक ऐसा सहारा है जो आपको भविष्य के विषय मॆ संकेत दे सकता है आपके आत्मविश्वास को टूटने नही देता मन मॆ विवेकपूर्ण निर्णय लेने की क्षमता देता है।
*शनि,गुरु,राहु,केतु का राशि परिवर्तन*-उपरोक्त सभी ग्रह लम्बे समय मॆ राशि परिवर्तन करते है।शनि जहा ढाई वर्ष मॆ राशि परिवर्तित करते है वही राहु केतु डेढ़ वर्ष मॆ,गुरु महाराज को राशि बदलने मॆ तेरह महीने लगते है।शनि राहु केतु का परिवर्तन आदमी की हालात को बिगाडने मॆ महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है वही गुरु ग्रह का परिवर्तन शुभता बढ़ाने मॆ महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है।काफी हद तक उपरोक्त चार ग्रहों के परिवर्तन से विश्व स्तर मॆ वृहद परिवर्तन हमेशा ही आता है।
*17अगस्त से 25अक्टूबर तक पूर्ण परिवर्तन*-इन चार ग्रहों का अपनी अगली राशियों मॆ परिवर्तन 17अगस्त से 25अक्टूबर 2017 तक हो जायेगा।17अगस्त से राहु कर्क राशि मॆ केतु महाराज मकर राशि मॆ जायेंगे।वही गुरुदेव 11सितम्बर से तुला राशि मॆ भ्रमण करेंगे।शनिदेव जो वक्री होकर वृश्चिक राशि मॆ है वे 26अगस्त को मार्गी होंगे साथ ही 25 अक्टूबर से धनु राशि मॆ प्रवेश कर जायेंगे।
*सभी राशियों के लिये प्रभाव*
*मेष*-इस राशि के लिये शुभ समय की शुरुआत।शिक्षा मॆ रुकावट समाप्त होगी मानसम्मान की वृद्धि होगी वही राज्य से मान सम्मान मिलेगा।
*वृषभ*पराक्रम मॆ वृद्वि होगी सामाजिक कार्यों मॆ सफलता।आर्थिक कार्यों मॆ परेशानी का योग।नवीन निवेश आदि के समय ठीक नही।
*मिथुन*-मांगलिक कार्यों का योग।शिक्षा व कर्मक्षेत्र मॆ सफलता का योग।भाग्य से आर्थिक कार्यों मॆ सफलता प्राप्त होगी।
*कर्क*-भाग्य साथ देगा।मान प्रतिष्ठा मॆ वृद्धि का योग।शत्रुपक्ष परास्त होगा।शुभ समय का संकेत।
*सिंह*खुद से जुड़े विवाद ख़त्म होने से राहत मिलेगी।भाग्य तथा धनयोग प्रबल।
*कन्या*-आर्थिक क्षेत्र मॆ खास परिवर्तन का योग।आमदनी के स्त्रोत अच्छा लाभ देंगे।समाज मॆ मान वृद्धि का योग।
*तुला*-कर्मक्षेत्र मॆ विशेष परिवर्तन का योग।पराक्रम वृद्धि विदेश यात्रा का योग।शारीरिक स्वास्थय का ध्यान रखें।
*वृश्चिक*-सम्पत्ति तथा सामाजिक मानवृद्धि का योग।भाग्यपरिवर्तन का योग।शिक्षा संतान पर धनव्यय का योग।
*धनु*-आर्थिक तथा सामजिक मानवृद्धि का योग।शुभ समय।पराक्रम वृद्धि का योग।विवादित कार्यों तथा अफवाहों से दूर रहें।
*मकर*-व्यापार नौकरी तथा परिवार मॆ विवादों से बचें परिवर्तन का योग।शत्रुपस्त होंगे।परोपकार के कार्यों मॆ समय व्यतीत होगा।
*कुम्भ*शत्रु रोग और ऋण ख़त्म होगा।आर्थिक रूप से खास लाभ वृद्धि का योग।शुभ समय।
*मीन*-नये कार्यों की शुरुआत का योग।आर्थिक क्षेत्र मॆ खास सफलता तथा सामजिक मान वृद्धि का योग।शिक्षा मॆ संगत का ध्यान रखें।

More एक नज़र

ज्योतिष ज्ञान

img

पुत्र प्राप्ति यन्त्र

रविवार के दिन सर्पाक्षी के पत्तो से युक्त डाली लाकर एक...

Click here
img

कुन्डली रहस्य

पंचम भाव में शनि मंगल लग्नेष के साथ हो तो...

Click here
img

संतान का लिंग बताता है चीनी कैलेंडर

मनचाही संतान प्रापित के लिए सवरोदय विज्ञान का...

Click here
img

रत्नों की जांच कैसे हो

कभी भी ज्योतिष की सलाह के बिना रत्न धारण नहीं...

Click here
img

रूद्राक्ष के प्रयोग

यदि मन्त्र षकित (विधान) के साथ धारण किया...

Click here
img

ग्रह दान वस्तु चक्रम

टीका-साधु, ब्रáणों और भूखों को भोजन कराने...

Click here
img

मंगली दोश के उपाय

जातक के लग्न में अषुभ मंगल होने से मंगली दोश बनता हो तो जातक को...

Click here

Can ask any question