logo
India Free Classifieds

चैत्र नवरात्रि 2074 घटस्थापना मुहूर्त

👣👣*चैत्र नवरात्रि*👣👣
साल 2017 की चैत्र नवरात्र 28 मार्च से शुरू होगी. इस पूजा की शुरुआत घटस्थापना से होगी, जिसका शुभ मुहूर्त सुबह 08 बजकर 26 मिनट से लेकर 10 बजकर 24 मिनट तक का है.या अभिजीत मुहूर्त दोपहर 12.08 बजे से 12 -56 बजे तक भी कर सकते है  नौ दिनों तक चलने इस पूजा में तक देवी दुर्गा के नौ स्वरूपों आराधना की जाएगी. वैसे तो एक वर्ष में चैत्र, आषाढ़, आश्विन और माघ के महीनों में कुल मिलाकर चार बार नवरात्र आते हैं, लेकिन इनमें से चैत्र और आश्विन नवरात्र सबसे ज्यादा लोकप्रिय हैं.
 
वसंत ऋतु में होने के कारण चैत्र नवरात्र को वसंत, वासंती या वासंतिक नवरात्र भी कहा जाता है. उल्लेखनीय है कि चैत्र शुक्ल पक्ष के नवरात्रों के साथ ही हिन्दू नवसंवत्सर शुरू हो जाता हैं. इस साल 28 मार्च से शुरू होने वाले यह नवरात्र पांच अप्रैल तक चलेगा. प्रस्तुत है इस चैत्र नवरात्र की मुख्य तिथियां:
 
यह भी पढ़ें:चैत्र नवरात्र 2017: जानें, लौकिक मान्यताओं के अनुसार नवरात्रि में क्या करें और क्या नहीं
28 मार्च 2017 :
 नवरात्र के पहले दिन दिन घटस्थापना होगी और देवी शैलपुत्री की पूजा की जाएगी.
29 मार्च 2017 :
नवरात्र के दूसरे दिन देवी ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाएगी.
30 मार्च 2017 :
नवरात्र के तीसरे दिन देवी दुर्गा के चन्द्रघंटा रूप की आराधना की जाएगी.
31 मार्च 2017 :
 इस साल 31 तारीख को माता के चौथे स्वरूप देवी कूष्मांडा जी की आराधना की जाएगी.
01 अप्रैल 2017 :
नवरात्र के पांचवें दिन भगवान कार्तिकेय की माता स्कंदमाता की पूजा की जाएगी.
02 अप्रैल 2017 :
 चैत्र नवरात्र के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा की जाएगी.
03 अप्रैल 2017 :
 नवरात्र के सातवें दिन मां कालरात्रि की पूजा की जाएगी.
04 अप्रैल 2017 :
 नवरात्र के आठवें दिन मां महागौरी की पूजा की जाएगी. इस दिन कई लोग कन्या पूजन भी करते हैं.
05 अप्रैल 2017 :
 नौवें दिन भगवती के देवी सिद्धदात्री स्वरूप का पूजन की जाएगी. सिद्धिदात्री की पूजा से नवरात्र में नवदुर्गा पूजा का अनुष्ठान पूर्ण हो जाता है।
✍ (ज्योतिषाचार्य)*
(मुकेश गौड़ जयपुर)
ज्योतिषिय परामर्श हेतु सम्पर्क करे
98294-52307 whats up
Call-9829055802

More 2015

ज्योतिष ज्ञान

img

पुत्र प्राप्ति यन्त्र

रविवार के दिन सर्पाक्षी के पत्तो से युक्त डाली लाकर एक...

Click here
img

कुन्डली रहस्य

पंचम भाव में शनि मंगल लग्नेष के साथ हो तो...

Click here
img

संतान का लिंग बताता है चीनी कैलेंडर

मनचाही संतान प्रापित के लिए सवरोदय विज्ञान का...

Click here
img

रत्नों की जांच कैसे हो

कभी भी ज्योतिष की सलाह के बिना रत्न धारण नहीं...

Click here
img

रूद्राक्ष के प्रयोग

यदि मन्त्र षकित (विधान) के साथ धारण किया...

Click here
img

ग्रह दान वस्तु चक्रम

टीका-साधु, ब्रáणों और भूखों को भोजन कराने...

Click here
img

मंगली दोश के उपाय

जातक के लग्न में अषुभ मंगल होने से मंगली दोश बनता हो तो जातक को...

Click here

Can ask any question