logo
India Free Classifieds

परशुराम जयंती- जानिए परशुराम जी की संक्षिप्त जीवनी parsuram jyanti

अक्षय तृतीया के दिन
शाहजहांपुर में पैदा हुये परशुराम ने अपने पिता के कहने पर
अपनी मां का सिर काट दिया था। पौराणिक कथाओं में
परशुराम को भगवान विष्णु का छठा अवतार कहा गया है और
उनके जन्म दिवस से ही वर्ष की
शुरूआत मानी जाती है।
भगवान परशुराम का जन्म अक्षय तृतीया के दिन
हुआ था। परशुराम का जन्म भले ही उत्तर प्रदेश
के शाहजहांपुर जिले के जलालाबाद में हुआ हो मगर
उनकी कर्म एवं तपोभूमि जौनपुर जिले का आदि गंगा
गोमती के पावन तट पर स्थित जमैथा गांव
ही रहा जहां उनके पिता महर्षि यमदग्नि ऋषि का
आश्रम आज भी है। उन्हीं के नाम
पर जौनपुर जिले का नाम यमदग्निपुरम पड़ा था लेकिन बाद में लोगों
ने इसे जौनपुर कहना शुरू कर दिया।
परशुराम यमदग्नि और रेणुका की संतान थे। इतिहास
के पन्ने पलटें तो पता चला कि एक बार उनके पिता ने मां का सिर
काट देने की आज्ञा दी। पिता
की आज्ञा को मानते हुये उन्होंने पलक झपकते
ही मां रेणुका का सिर धड़ से अलग कर दिया। इसके
बाद ऋषि यमदग्नि ने परशुराम से कहा कि वरदान मांगों इस पर
उन्होंने कहा कि यदि वरदान ही देना है तो
मेरी मां को पुन: जीवित कर दों इस पर
पिता यमदग्नि ने रेणुका को दोबारा जीवित कर दिया।
जीवित होने के बाद रेणुका ने कहा कि परशुराम तुमने
मां के दूध का कर्ज अदा कर दिया। इस प्रकार पूरे विश्व में
परशुराम ही ऐसे व्यक्ति हैं जो मां और बाप दोनों के
रिण से उरिण हुये।
परशुराम के गुरू भगवान शिव थे। उनसे उन्हें
आर्शीवाद स्वरूप फरसा मिला था। महर्षि यमदग्नि
ऋषि जमैथा स्थित अपने आश्रम पर तपस्या करते थे।
आसुरी प्रवृत्ति का राजा
कीर्तिवीर उन्हें परेशान करता था।
यमदग्नि ऋषि तमसा नदी के किनारे बसे आजमगढ़
गये जहां भृगु ऋषि रहते थे।
उन्होंने यमदग्नि को अयोध्या जाने और राजा दशरथ के दो पुत्र
राम लक्ष्मण की सहायता लेने की सलाह दी। यमदग्नि ऋषि अयोध्या गये और राम
लक्ष्मण को अपने साथ लाये। राम लक्ष्मण ने कीर्तिवीर को मारा और गोमती नदी में स्नान किया तभी से इस घाट का नाम रामघाट हो गया। भगवान परशुराम ने तत्कालीन
आसुरी प्रवृति वाले क्षत्रियों का ही वध किया था। जौनपुर के जमैथा में अभी भी
उनकी मां रेणुका का मंदिर है जहां लोग पूजा अर्चना
करते हैं।

 

<p dir="\\\\&quot;ltr\\\\&quot;" style="\\\\&quot;font-family:" arial,="" sans-serif;="" font-size:="" 12.8000001907349px;\\\\"=""> परशुराम जयंती की हार्दिक शुभकामनाएँ

More एक नज़र

ज्योतिष ज्ञान

img

पुत्र प्राप्ति यन्त्र

रविवार के दिन सर्पाक्षी के पत्तो से युक्त डाली लाकर एक...

Click here
img

कुन्डली रहस्य

पंचम भाव में शनि मंगल लग्नेष के साथ हो तो...

Click here
img

संतान का लिंग बताता है चीनी कैलेंडर

मनचाही संतान प्रापित के लिए सवरोदय विज्ञान का...

Click here
img

रत्नों की जांच कैसे हो

कभी भी ज्योतिष की सलाह के बिना रत्न धारण नहीं...

Click here
img

रूद्राक्ष के प्रयोग

यदि मन्त्र षकित (विधान) के साथ धारण किया...

Click here
img

ग्रह दान वस्तु चक्रम

टीका-साधु, ब्रáणों और भूखों को भोजन कराने...

Click here
img

मंगली दोश के उपाय

जातक के लग्न में अषुभ मंगल होने से मंगली दोश बनता हो तो जातक को...

Click here

Can ask any question