logo
India Free Classifieds

मृत्युभोज - आस्था या अंधविश्वास (Astha or Andhvishwas)

मृत्युभोज समाज की वो कुरीति है जो वर्षो से हमारे समाज में पनप रही है। एक तो घर से इंसान चला जाता है उसका दुःख काम नहीं होता इससे पहले ही उस पर दूसरा दुःख भी आ जाता है। किसी को समाज के दर से तो किसी को समाज में अपनी प्रतिष्ठा ज़माने के लिए तो किसी को आत्माओं के भय का कारण मृत्युभोज करना पड़ता है। और इसमें सबसे ज्यादा भार  गरीब और मिडिल कलास परिवार पर पड़ता है। उसे उधार  लेकर ये  मृत्युभोज करना पड़ता है। और जिंदगी भर साहूकारों का ब्याज चुकाना पड़ता है। और इसी में उसकी जिंदगी निकल जाती है। मिडिल कलास परिवार की खून पशीने की कमाई इसी मृत्युभोज में चली जाती है। मृत्युभोज हमारे देश के राजस्थान बिहार उत्तर प्रदेश में इसका चलन ज्यादा है। जो की निराधार है। परन्तु ऐसा किसी शास्त्र में नहीं लिखा है की परिवार के किसी सदस्य की मृत्यु के पश्चात परिवार वालो को मृत्युभोज का आयोजन करना पड़ेगा।

क्या मृत्युभोज कराने से मरने वाले की आत्मा को शांति मिलती है। क्या मृत्युभोज कराने से आत्मा को स्वर्ग की प्राप्ति होती है। लोग इसी आस्था में मृत्युभोज का आयोजन करते है

आप ही बताये 'मृत्युभोज ' आस्था है या अन्धविश्वास

ज्योतिष ज्ञान

img

पुत्र प्राप्ति यन्त्र

रविवार के दिन सर्पाक्षी के पत्तो से युक्त डाली लाकर एक...

Click here
img

कुन्डली रहस्य

पंचम भाव में शनि मंगल लग्नेष के साथ हो तो...

Click here
img

संतान का लिंग बताता है चीनी कैलेंडर

मनचाही संतान प्रापित के लिए सवरोदय विज्ञान का...

Click here
img

रत्नों की जांच कैसे हो

कभी भी ज्योतिष की सलाह के बिना रत्न धारण नहीं...

Click here
img

रूद्राक्ष के प्रयोग

यदि मन्त्र षकित (विधान) के साथ धारण किया...

Click here
img

ग्रह दान वस्तु चक्रम

टीका-साधु, ब्रáणों और भूखों को भोजन कराने...

Click here
img

मंगली दोश के उपाय

जातक के लग्न में अषुभ मंगल होने से मंगली दोश बनता हो तो जातक को...

Click here

Can ask any question