logo
India Free Classifieds

2 नवम्बर को-अस्त होकर शत्रु राशि में पहुंचेगा शनि-धनु राशि वालो को साढ़ेसाती शुरू

न्याय का गृह शनि रविवार को अपनी चाल बदलेगा । शनि ग्रह उच्च राशि तुला को छोड़कर शत्रु

राशि वृश्चिक में प्रवेश करेगा । ज्योतिषविदों के मुताबिक शनि अस्त होकर राशि परिवर्तन

करेंगे । शनि के राशि परिवर्तन  के साथ ही  कन्या राशि से साढ़े साती हटेगी तो धनु राशि वालो

को साढ़े साती का प्रभाव शुरू हो जाएगा । इनके अलावा तुला व वृश्चिक में साढ़े साती यथावत

रहेगी| इसी तरह ढय्या में चल रहे मीन और कर्क अब मुक्त हो जायेगे| अब मेष और सिंह राशि

वालो को ढय्या शुरू हो जायेगी ।  ज्योतिष विद्या के अनुसार  शनि, शनिवार को दोपहर बाद ४

बजकर २ मिनट पर अस्त हो जाएगा । शनि एक माह अस्त रहेगा । अगले दिन रविवार को शनि

रात्रि 8.55 बजे राशि परिवर्तन करेगा । शनि अस्त होने से ये सीधे प्रभावित नहीं करेगा । शनि

का प्रभाव ५ दिसम्बर के बाद ही दिखेगा ।

बनेगा द्विद्वादश योग

शनि के वृश्चिक राशि में प्रवेश करते ही मंगल से द्विद्वादश योग बनेगा । इस योग के कारण

अग्निकांड, रेल दुर्घटना , यान दुर्घटना जैसी दुर्घटनाये संभावित रहेगी । ये योग २७ नवंबर तक

रहेगा । वृश्चिक राशि चुकी शत्रु राशि है इसलिए ये आमजन को प्रभावित कर सकता है । अस्त

शनि से इसमें राहत भी  मिलेगी | 

किस राशि पर कौनसा पाया

सोने का पाया - मेष , कन्या , कुम्भ
 

प्रभाव - सोने का पाया दौड़ धुप की अधिकता वाला होता है ।
 

ताम्बे का पाया- वृष , सिंह , धनु
 

प्रभाव - ताम्बे का पाया कभी शुभ और कभी अशुभ प्रभाव देता  है ।
 

चांदी  का पाया  - मिथुन , तुला और मकर
 

प्रभाव- मान सम्मान सुख समृद्धि को बढ़ता है ।
 

लोहे का पाया- कर्क , वृश्चिक और मीन

प्रभाव - शारीरिक रूप से रोग पीड़ा और धन हानि को बढ़ता है ।
 

उपाय- साढ़ेसाती व ढय्या वालो को शनिवार को सप्त धान्य का दान, शनिवार को  पीपल व शनि

की पूजा के साथ तेलाभिषेक करें और तेल का दीप जलाये | 

More एक नज़र

ज्योतिष ज्ञान

img

पुत्र प्राप्ति यन्त्र

रविवार के दिन सर्पाक्षी के पत्तो से युक्त डाली लाकर एक...

Click here
img

कुन्डली रहस्य

पंचम भाव में शनि मंगल लग्नेष के साथ हो तो...

Click here
img

संतान का लिंग बताता है चीनी कैलेंडर

मनचाही संतान प्रापित के लिए सवरोदय विज्ञान का...

Click here
img

रत्नों की जांच कैसे हो

कभी भी ज्योतिष की सलाह के बिना रत्न धारण नहीं...

Click here
img

रूद्राक्ष के प्रयोग

यदि मन्त्र षकित (विधान) के साथ धारण किया...

Click here
img

ग्रह दान वस्तु चक्रम

टीका-साधु, ब्रáणों और भूखों को भोजन कराने...

Click here
img

मंगली दोश के उपाय

जातक के लग्न में अषुभ मंगल होने से मंगली दोश बनता हो तो जातक को...

Click here

Can ask any question